बैसाखी पर कैनेडियन पुलिस बैंड ने दी जंग-ए-आज़ादी यादगार में शानदार प्रस्तुति


जालन्धर, 14 अप्रैल (जसपाल सिंह): सांस्कृतिक दौरे पर पंजाब आए वैंकुवर (कनाडा) पुलिस के पाईप बैंड द्वारा बैसाखी के अवसर पर आज करतारपुर स्थित जंग-ए-आजादी यादगार में बैंड की शानदार प्रस्तुति की गई। अपने कैनेडियन पारम्परिक पहरावे में सजे दो दर्जन के करीब बैंड  सदस्यों द्वारा विभिन्न कैनेडियन-भारतीय धुनों की जहां बेहतरीन प्रस्तुति की गई, वहीं कैनेडियन पुलिस द्वारा पेश किए पंजाबी ढोल ने भी सभी को मंत्रमुग्ध करदिया। जंग-ए-आजादी यादगार के प्रांगण में एकत्रित हुए नौजवानों, महिलाओं एवं बच्चों सहित हर उम्र एवं वर्ग के लोगों ने एडम पालमर के नेतृत्व में कैनेडा पुलिस के इस पाईप बैंड की प्रस्तुति का जमकर लुत्फ उठाया। इस अवसर पर बैंड के साथ वैंकुवर पुलिस के डिप्टी चीफ स्टीव राए एवं कैनेडियन पुलिस बोर्ड के सदस्य बरजिन्द्र सिंह ढाहां सहित पुलिस के अन्य अधिकारी व प्रमुख शख्सियतें भी उपस्थित थीं। बैंड के सदस्यों में शामिल पूर्ण सिख नौजवान सुखसंगर ने कैनेडियन बैंड के साथ जब ढोल बजाया तो हर कोई खुशी से झूम उठा। इससे पहले बैंड का जंग-ए-आजादी यादगार में पहुंचने पर जंग-ए-आजादी यादगार की मैनेजिंग कमेटी के उपप्रधान एवं वरिष्ठ पत्रकार श्री सतनाम सिंह माणक, मैनेजिंग कमेटी के महासचिव डा. लखविन्द्र सिंह जौहल, लवली ग्रुप के चेयरमैन रमेश मित्तल, दैनिक उत्तम हिन्दू के मुख्य सम्पादक इरविन खन्ना, सतेन्द्र प्रकाश डायरैक्टर डी.ए.वी.पी, रितिन खन्ना एवं अन्य प्रमुख शख्सियतों द्वारा भव्य स्वागत किया गया। इस अवसर पर स्टीव राय, बरजिन्द्र सिंह ढाहां एवं बैंड का नेतृत्व कर रहे एडम पालमर एवं कैल डेविस आदि ने शहीदी मीनार पर पुष्पमालाएं भेंट कर आजादी के संघर्ष में न्यौछावर करने वाले शहीदों को स्मरण करते अपनी श्रद्धा के पुष्प भेंट किए। प्रबंधक कमेटी के सदस्यों का धन्यवाद करते बरजिन्द्र सिंह ढाहां ने जंग-ए-आजादी यादगार के विशाल संकल्प को साकार करने हेतु डा. बरजिन्दर सिंह हमदर्द द्वारा डाले गए योगदान की भरपूर प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि इस स्थान पर आकर देशभक्तों की कुर्बानियों के आगे सिर स्वयं झुक जाता है और शहीदी मीनार पर सिजदा करके एक आत्मिक संतुष्टि तो मिलती ही है बल्कि पंजाबी होने पर गर्व भी महसूस होता है। स्वतन्त्रता के संघर्ष में अपने पारिवारिक सदस्यों द्वारा डाले गए योगदान को स्मरण करते उन्होंने कहा कि स्वतन्त्रता के संघर्ष में पंजाबियों का बड़ा योगदान है और उस समय विदेशों से भी भारी संख्या में पंजाबियों ने आकर इस संघर्ष में अपना योगदान दिया था। इस मौके उनके साथ विशेष रूप से कैनेडा से डा. बरजिन्दर सिंह हमदर्द के लिए लाया स्मृति चिन्ह, श्री रमेश मित्तल चेयरमैन लवली ग्रुप को भेंट किया। इस अवसर पर स्टीव राय के नेतृत्व में कनाडा के अन्य पुलिस अधिकारियों द्वारा श्री रमेश मित्तल, श्री सतनाम सिंह माणक एवं डा. लखविन्द्र सिंह जौहल सहित अन्य प्रमुख शख्सियतों को कनाडा पुलिस के बैज भी भेंट किए गए जबकि जंग-ए-आजादी यादगार मैनेजिंग कमेटी द्वारा भी विशेष रूप से बरजिन्द्र सिंह ढाहां, स्टीव राय, एडम पालमर, डेविड कोविन, कैल डेविस, कुलविन्द्र सिंह ढाहां, युक्ति गोयल एडीशनल सी.जे.एम., एवं पुनीत शर्मा अतिरिक्त सैशन जज शहीद भगत सिंह नगर एवं अन्य अहम शख्सियतों को जंग-ए-आजादी यादगार की तस्वीर भेंट करके सम्मानित किया। मंच का संचालन प्रो. बिकरम सिंह विर्क द्वारा बखूबी किया गया। पंजाब में अपनेपन का एहसास हुआ : स्टीव राय : मोगा जिले के गांव धूड़कोट धालीवाल के रहने वाले वैंकुवर पुलिस के डिप्टी चीफ स्टीव राय ने कहा कि वह केवल 5 वर्ष के थे, जब कैनेडा चले गए परन्तु आज यहां आकर उनको अपनेपन का अहसास हुआ है और पंजाबियों ने उनको भरपूर प्यार दिया। कनाडा में पहले डिप्टी चीफ पुलिस बनने वाले पहले पंजाबी स्टीव राय ने बताया कि उनका वास्तविक नाम सतविन्द्र सिंह राय है, परन्तु जहां वह रहते थे, वहीं सारे गोरे होने के कारण उनके द्वारा उसका छोटा नाम स्टीव रख लिया परन्तु उन्होंने राय शब्द को अपने से कभी भी अलग नहीं किया। सिक्खी स्वरूप में खूब जचते हैं बैंड के सदस्य : सुख संगर : कैनेडियन पाईप बैंड के सदस्य सुख संगर सिक्खी स्वरूप में खूब जचते हैं। कैनेडा के जन्मे होने के बावजूद सुख संगर न केवल सिक्खी को संभाल रहे हैं, बल्कि उनको सिख होने पर गर्व भी है।