राजनीतिक सम्मान का सवाल बनी गुरदासपुर लोकसभा सीट


गुरदासपुर, 24 अप्रैल (पंकज शर्मा) : गुरदासपुर लोक सभा सीट से भाजपा उम्मीदवार सन्नी देओल के मैदान में उतर जाने पर पूरे पंजाब की राजनीति में  हलचल मच गई है। सन्नी देओल की तरफ से पंजाब की राजनीति में प्रवेश करने के बाद पंजाब की सभी ही राजनीतिक पार्टियों का ध्यान गुरदासपुर सीट पर केंद्रित हो गया है। इस बात का अंदाज़ा यहाँ से भी लगाया जा सकता है कि सन्नी देओल को गुरदासपुर से उम्मीदवार घोषित किया है। परन्तु इस ख़ुशी में जहाँ गुरदासपुर में लड्डू बाँटे और पटाख़े चलाए जा रहे हैं, वहाँ उनके पैतृक गाँव साहनेवाल में भी ऐसी ही ख़ुशी व्यक्त की जा रही है। अब भाजपा और कांग्रेस दोनों पार्टियों के लिए गुरदासपुर की लोक सभा सीट अपने राजनीतिक सम्मान का सवाल बनती नज़र आ रही है, क्योंकि भाजपा ने काफ़ी इन्तज़ार और ज़ोर लगा कर इस सीट पर सन्नी देओल को खड़ा किया है। जिससे यह अंदाज़ा लगाया जा सकता है कि भाजपा पंजाब कांग्रेस कमेटी के प्रधान सुनील जाखड़ को हरा कर जहाँ अपना राजनैतिक कद ऊँचा उठाना चाहती है, वहाँ राजनीति के इस युद्ध में साबित करना चाहती है कि उन्होंने कांग्रेस समिति के राज्य प्रधान को हराया है परन्तु यह चुनौती आसान दिखाई नहीं देती है, क्योंकि दूसरी तरफ कांग्रेस भी सन्नी देओल को एक चुनौती के तौर पर ले रहे हैं। जिस कारण कांग्रेस लीडरशिप जाखड़ को जीताने के लिए एक होकर अपने हलकों में ज़ोर लगा रही है। गुरदासपुर लोक सभा हलके में तीन कैबिनेट मंत्री और चार कांग्रेस के एम.एल.ए. मौजूद हैं। इसके अलावा पंजाब की सीनियर कांग्रेस लीडरशिप भी अब गुरदासपुर पर अपना ज़ोर लगाती नज़र आ सकती है। जाखड़ को जीतना कांग्रेसियों के लिए भी अब सम्मान का सवाल बन चुका है और आने वाले समय में गुरदासपुर की सीट के नतीजे दिलचस्प होने की संभावना है और इस मुकाबले को राजनीतिक माहिर महा मुकाबला भी बता रहे हैं।