हरसिमरत व राजा वडिंग में होगी बठिंडा क्षेत्र में मुख्य टक्कर


मानसा, 24 अप्रैल : प्रमुख पार्टियों के उम्मीदवारों के ऐलान के बाद लोक सभा हलका बठिंडा में राजनीतिक सरगर्मियां एकदम बढ़ गई है। पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल के परिवार द्वारा अपनाए गए इस चर्चित हलके में पूरे विश्व के पंजाबियों की नज़रें टिकी हुई है। शिरोमणि अकाली दल ने केन्द्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल को चुनाव मैदान में उतारने का ऐलान बहुत देर बाद किया है पर अकाली सूत्रों की मानी जाए तो यह भी एक नीति का ही हिस्सा है। गौरतलब बात है कि उम्मीदवार हरसिमरत के अलावा पूरी अकाली हाईकमान ने इस हलके में पिछले महीने से अपने तरीके से चुनाव प्रचार किया जा रहा था। उन्होंने हर वर्ग के वोटरों से गांव-शहरों में वार्ड वार एक चरण पहले ही पूरा कर लिया है, इस करके हरसिमरत चुनाव प्रचार में सबसे आगे है और अगले दिनों में प्रचार के मामले में विरोधी उम्मीदवारों द्वारा उस को हराना आसान नहीं होगा। लगभग 16 लाख वोटरों वाले इस हलके की लोकसभा सीट से 1996 से लेकर आज तक अकाली दल का कब्जा है। कांग्रेस पार्टी द्वारा चुनाव मैदान में उतारे गए ऑल इंडिया यूथ कांग्रेस के पूर्व प्रधान व गिद्दड़बाहा हलके के विधायक अमरेन्द्र सिंह राजा बड़िंग ने भी चुनावी सरगर्मियां पिछले 3 दिनों काफी बढ़ा दी है। इस हलके का मुख्य मुकाबला अकाली दल व कांग्रेस पार्टी के उम्मीदवारों के बीच होने की संभावना है। सुखपाल खैहरा व बलजिंदर कौर एक-दूसरे को चुनौती दे रहे है। शिरोमणि अकाली दल (अ) के भाई गुरसेवक सिंह जवाहरके, सी.पी.आई. (एस.एल.) इबरेशन के उम्मीदवार भगवंत सिंह  भी चुनाव प्रचार में जुट गए है।