बोर्ड द्वारा 10वीं कक्षा की पुस्तक में गुरबाणी के साथ छेड़छाड़


अमृतसर, 24 अप्रैल (सुरिन्द्रपाल सिंह वरपाल): अपनी कारगुजारी के कारण हमेशा चर्चाओं में रहने वाले पंजाब स्कूल शिक्षा बोर्ड ने एक बार फिर 10वीं कक्षा की पुस्तक में शामिल श्री गुरु नानक देव जी की वाणी की पंक्तियों को हटा कर अपने द्वारा एक तुक शामिल करते गलती को अंजाम दिया है। जिस कारण सिख भाईचारे द्वारा कड़ा विरोध किया जा रहा है। प्राप्त जानकारी के अनुसार पंजाब स्कूल शिक्षा बोर्ड द्वारा श्री गुरु नानक देव जी द्वारा उच्चारित की गई वाणी को साहित्य माला-10 (पंजाबी कविता व वार्तक) पुस्तक में गुरमति-कावि गुरु नानक देव जी पन्ना नम्बर 5 पर शब्द शामिल किया गया है जिसमें गुरबाणी की 5वीं व 6वीं पंक्ति को समाप्त कर दोनों पंक्तियों की बजाय अपने पास से एक नई पंक्ति को जोड़ दिया गया है। इसके अलावा पुस्तक में शामिल गुरबाणी के शब्दों में लगी मात्राओं की बहुत सी गलतियां हैं व विद्वानों के अनुसार एक लगी मात्रा के गलत उच्चारण के साथ गुरबाणी के अर्थ बदल जाते हैं।इस संबंधी शिरोमणि कमेटी प्रधान भाई गोबिंद सिंह लौंगोवाल ने कहा कि शिक्षा विभाग द्वारा 10वीं कक्षा की पुस्तक में गुरबाणी के साथ की गई छेड़छाड़ को बिल्कुल भी बर्दाश्त नहीं किया जा सकता।