सैक्स रैकेट के आरोपी से 15 लाख फिरौती लेने के मामले में केंद्रीय जेल पटियाला के सुपरिंटेंडैंट सहित चार निलंबित


पटियाला, 25 अप्रैल (परगट सिंह): मुजफ्फरनगर सैक्स रैक्ट के मामले में केंद्रीय जेल पटियाला में बंद मुख्य आरोपी बरजेस ठाकुर की मारपीट और मानसिक तौर पर परेशान करने और 15 लाख की फिरौती लेने के मामले की जांच पूरी होने पर जेल विभाग के प्रिंसिपल सचिव कृपा शंकर सरोज ने उस समय के जेल सुपरीटेंडैंट राजन कपूर और सहायक सुपरीटेंडैंट विकास शर्मा, सुखजिन्दर सिंह और परगण सिंह को निलंबित कर दिया है। उल्लेखनीय है कि केंद्रीय जेल पटियाला के इस मामले की जानकारी मिलने पर जेल मंत्री सुखजिन्दर सिंह रंधावा ने 14 दिसंबर 2018 को आई.जी कंवर विजय प्रताप सिंह को इस मामले की जांच करने के हुक्म जारी किये थे। जिसके अंतर्गत उस समय जेल के सुपरीटेंडैंट राजन कपूर को सस्पैंड कर दिया गया था। सूत्रों अनुसार उक्त मामले की जांच दौरान आई.जी विजय प्रताप सिंह ने पाया कि केंद्रीय जेल पटियाला में बंद बरजेस ठाकुर नाम के कैदी को 11 नवम्बर की सुबह को सहायक सुपरीटेंडैंट विकास शर्मा, हैड वार्डर सुखजिन्दर सिंह व अन्य मुलजिमों समेत ठाकुर की बैरक मे आए और उसके साथी कैदी को बैरक में से बाहर जाने के लिए कहा गया था। जिसके बाद दो गैंगस्टर गुरू बच्चा और अमित भूरा समेत तीन कैदी ने बरजेस के कपड़े उतार कर उसकी मारपीट करने और बदफैली करने का सारा मामला उन्होंने कैमरे में कैद कर लिया था। ऐसा कई बार करने पर उन्होंने बरजेस ठाकुर पर दबाव डाला कि वह अपने परिवारिक स्दसयों को 15 लाख रपुए देने के लिए कहे। जिस के अंतर्गत बरजेश ठाकुर ने अपने रिशतेदार द्वारा 15 लाख इन मुलजिमों को पहुंचायें थे और यह सारा कुछ जेल सुपरडैंट की रहनुमाई में हो रहा था। इस संबंधित बरजेस ठाकुर के घरवालों ने जेल में दिए 15 लाख वापिस कराने के लिए गुहार मुख्य मंत्री पंजाब को भी लगाई थी। सूत्रों का कहना है कि इस मामले की पड़ताल दौरान एक ओर कैदी के साथ भी उक्त मुलजिमों की तरफ से ऐसा काम करके उससे 15 लाख रपुए की मांग की थी। पीडित के भाई ने किशतों में मुलज़िमों को 7लाख रुपये फिरौती के तौर पर दिए थे। सूत्रों का कहना है कि पड़ताल रिपोर्ट अनुसार उक्त मामलें की फिरौती की रकम हवाले के द्वारा आती थी। जिस में से जेल सुपरडैंट को अपना हिस्सा भेज दिया जाता था।