मंडी संसदीय क्षेत्र के 2083 मतदान केंद्रों में आज होगा मतदान


6 जिलों में फैला है संसदीय क्षेत्र, दिग्गजों का है रणक्षेत्र 
मंडी, 18 मई (खेमचंद शास्त्री) : देश के दूसरे सबसे बड़े और प्रदेश के सबसे बड़े मंडी संसदीय क्षेत्र के 2083 मतदान केंद्रों में करीब पौने तेरह लाख मतदाता आज अपना सांसद चुनेंगे। मजे की बात है कि देश के दूसरे सबसे बड़े संसदीय क्षेत्र में देश का सबसे ऊंचाई पर स्थित मतदान केंद्र टांशीगंग जो समुद्रतल से 4475 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है,इसी संसदीय क्षेत्र का हिस्सा है। इस मतदान केंद्र पर कुल 49 मतदाता हैं जिनमें 29 पुरूष और 20 महिलाएं हैं। मंडी संसदीय क्षेत्र में पहली बार सबसे अधिक 17 उम्मीदवार चुनाव मैदान में है जिसकी वजह से यहां हर एक मतदान केंद्र पर दो-दो ईवीएम मशीन लगेगी जिसके चलते यहां सबसे अधिक 5693 ईवीएम मतदान केंद्रों में स्थापित की जा चुकी है। मंडी संसदीय क्षेत्र आधे हिमाचल तक फैला है जिसके तहत 6 जिलों के कुल 17 विधानसभा क्षेत्र आते हैं। इनमें मंडी जिला के 9 विधानसभा क्षेत्रों के अलावा कुल्लू के चार विधानसभा क्षेत्र, शिमला के रामपुर और चंबा के भरमौर क्षेत्र के साथ किन्नौर एवं लाहुल-स्पीति विधानसभा क्षेत्र शामिल हैं। गौरतलब है कि मंडी का धर्मपुर क्षेत्र हमीरपुर संसदीय क्षेत्र के अंतर्गत आता है। मंडी संसदीय क्षेत्र में कुल 12 लाख 81 हजार 462 मतदाता हैं। इनमें 6 लाख 30 हजार 661 महिला मतदाता और 6 लाख 50 हजार 796 पुरूष वोटर हैं। सर्विस वोटर की संख्या 13747 हैं। इसके साथ ही तीसरे जेंडर के 5 मतदाता हैं। मंडी संसदीय क्षेत्र हमेशा ही दिग्गजों का रणक्षेत्र रहा है। 2014 के चुनाव में तत्कालीन मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह की धर्मपत्नी चुनाव मैदान में थी। वहीं पर अब मंडी से मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के लिए भाजपा उम्मीदवार रामस्वरूप शर्मा और पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री पंडित सुखराम अपने पोते कांग्रेस उम्मीदवार के लिए प्रचार करते रहे जिसके चलते हर बार की तरह इस बार भी मंडी संसदीय क्षेत्र दिग्गजों की रणभूमि बना रहा। लोकतंत्र के इस उत्सव में मंडी संसदीय क्षेत्र के मतदाता अपनी भागीदारी निभाते हुए क्षेत्र से अपना प्रतिनिधि चुन कर भेजेंगे।