कमलनाथ, गहलोत और चिदंबरम ने अपने निजी हित पार्टी से ऊपर रखे - राहुल गांधी


नई दिल्ली, 26 मई - कांग्रेस वर्किंग कमेटी ने पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी का इस्तीफा नामंजूर कर दिया। राहुल ने लोकसभा चुनावों में हार की जिम्मेवारी लेते हुए पद से हटने का प्रस्ताव दिया। कांग्रेस की वर्किंग कमेटी की बैठक में राहुल ने सीनियर नेताओं पर भी नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि कुछ सीनियर नेताओं ने पार्टी हित से ऊपर अपने बेटों का हित रखा। अंग्रेज़ी अखबार के मुताबिक, बैठक में राहुल काफी गुस्से में दिखे। उन्होंने आरोप लगाया कि पार्टी के कुछ सीनियर नेता अपने पुत्रों को टिकट दिलाने के लिए वह जोर लगा रहे थे। राहुल ने यह बात कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया की उस टिप्पणी पर कही, जिसमें उन्होंने स्थानीय नेताओं को मजबूत करने की बात कही थी। राहुल ने कहा कि पार्टी ने उन राज्यों में बहुत खराब प्रदर्शन किया, वहां भी पार्टी का खराब प्रदर्शन रहा। सूत्रों के मुताबिक राहुल गांधी ने कहा कि राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने अपने बेटों को टिकट दिलाने पर जोर दिया, जबकि मैं इस पक्ष में नहीं था। रिपोर्ट के मुताबिक, राहुल अभी भी इस्तीफे पर अड़े हुए हैं और किसी गैर-गांधी को प्रधान बनाने की बात कह रहे हैं।