पानी बचाकर अब तक 300 किसानोंं ने लाखों कमाए


8पावरकाम ने योजना को 150 और फीडरों पर शुरू किया 
जालन्धर, 26 मई (शिव): राज्य में कई जगह ज़मीन में पानी बेहद नीचे जाने के बाद पावरकाम द्वारा शुरू की गई योजना के तहत राज्य में 300 किसानों ने पानी बचाकर लाखोंं रुपए कमाए हैं। सरकार की वित्तीय मदद से चल रही इस योजना से पावरकाम बेहद उत्साहित है और अब इस योजना को 150 फीडरों पर शुरू कर दिया गया है। पावरकाम के सूत्रोंं का कहना है कि कुछ समय पहले ही इस योजना को शुरू किया गया है। इस योजना के तहत यदि कोई भी किसान फसल लगाते समय पानी की बचत करता है तो इससे उसे 4 रुपए प्रति यूनिट की मदद की जाती है। पावरकाम ने किसानों को पानी बचाने के लिए उपाय बताए हैं। योजना के तहत जब पानी की बचत की जाती है तो बिजली भी कम लगती है। पावरकाम द्वारा किसानों की मोटरों पर मीटर लगा दिए जाते हैं। किसान फसलेंं लगाते समय जितनी बिजली की बचत करते हैं तो पावरकाम द्वारा उन्हें प्रति यूनिट 4 रुपए दिए जाते हैं। यह राशि सरकार द्वारा दी जाती है। सरकार द्वारा किसानों को पानी बचाने स्वरूप जो राशि दी जाती है, उसके मुताबिक पंजाब सरकार को भी प्रति यूनिट 1.25 रुपए की बचत होती है क्योंकि उसे पावरकाम को ट्यूबवैलों की सब्सिडी की राशि 5.25 रुपए प्रति यूनिट देनी पड़ती है। पंजाब सरकार द्वारा कृषि सैक्टर के लिए 6600 से ज्यादा सब्सिडी दी जाती है। सरकार को भी इस योजना का भी फायदा हुआ है। यह योजना अभी तक कुछ फीडरों पर शुरू की गई थी। इनमें मुकेरियां, फतेहगढ़ साहिब व अन्य भी कई फीडर शामिल हैं। इन फीडरोंं के तहत आते किसानों को पानी की बचत कर लाखों रुपए सरकार से राशि प्राप्त की है। पावरकाम के सूत्रों के अनुसार पानी बचाने की योजना की इस समय बेहद ज़रूरत है क्योंकि इस योजना को उन स्थानों की पहचान कर शुरू की गई है जिन स्थानों पर ज़मीन में पानी बेहद नीचे जा रहा है। पानी बचाने की योजना से किसानों को तो फायदा हुआ है बल्कि इससे पानी का स्तर भी सही रखने में सफलता मिल सकती है। पावरकाम तो किसानों को पानी बचाने के लिए अलग-अलग उपाय लागू करने की सिफारिश कर रहा है और इसके साथ उसने किसानों को ट्यूबवैल मोटरों पर शंट कपैस्टर लगाने के लिए भी अभियान चलाया है। पावरकाम का कहना है कि आई.एस.आई. मार्का वाला शंट कपैस्टर लगाने से वोल्टेज बढ़ जाती है और इससे मोटर भी करंट कम लेती है। करंट घटने से मोटर जलने से बच जाती है। पावरकाम ने इस समय इस अभियान को प्रदेशभर में बड़े अभियान के रूप मेंं लिया जाता है क्योंकि पावरकाम का कहना है कि शंट कपैस्टर लगाने से ट्रांसफार्मरों पर लोड कम पड़ता है जिस कारण वह जलने से बच जाते हैं। इससे निर्विघ्न बिजली आपूर्ति मिलती रहती है। पावरकाम के सी.एम.डी. इंजीनियर बलदेव सिंह सरां सम्पर्क करने पर बताते हैं कि यह योजना किसानों के हित में ही है क्योंकि जिन स्थानों पर पानी बेहद नीचे जा रहा है, उस जगह पर इस योजना से किसानों को ट्यूबवैल और नीचे बोर नहीं करवाना पड़ेगा।