देश में 7 राष्ट्रीय, 59 मान्यता प्राप्त व 2044 प्रदेश स्तरीय रजिस्टर्ड पार्टियां


लुधियाना, 27 मई (पुनीत बावा) : देश में 7 मान्यता प्राप्त पार्टियां राष्ट्रीय पार्टियां, 59 मान्यता प्राप्त प्रदेश स्तरीय पार्टियां व 2044 रजिस्टर्ड पार्टियां हैं। जिनको 164 किस्म के चुनाव निशान अलाट किए जाते है पर राष्ट्रीय पार्टियां व 59 मान्यता प्राप्त पार्टियों को पक्के चुनाव निशान अलाट किए गए हैं। पंजाब सहित देश में अधिकतर पार्टियां लोकसभा या विधानसभा चुनाव सिर्फ अपनी रजिस्ट्रेशन बनाने के लिए ही चुनाव लड़ती हैं। राष्ट्रीय स्तर की 7 पार्टिया में आल इंडिया तृणमूल कांग्रेस, बहुजन समाज पार्टी, भारतीय जनता पार्टी, सी. पी. आई. एम., इंडियन नैशनल कांग्रेस, नेशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी व सी.पी.आई. है। देश के अंदर 59 प्रदेश स्तरीय पार्टियों में आंध्र प्रदेश में 3, अरूणाचल प्रदेश में 1, असम में 3, बिहार में 4, गोवा में 2, हरियाणा में 1, जम्मू-कश्मीर में 3, झारखंड में 4, कर्नाटक में 1, केरल में 4, महाराष्ट्र में 2, मणिपुर में 3, मेघालय में 3, मिज़ोरम में 3, नागालैंड में 1, नई दिल्ली में 1, ओडिशा में 1, पुडुचेरी में 4, पंजाब में 2, सिक्किम में 2, तामिलनाडु में 3, तेलंगाना में 4, उत्तर प्रदेश में 2, पश्चिमी बंगाल में 2 हैं। भारतीय चुनाव आयोग के पास 20 जून, 2018 से 26 सितम्बर, 2018 तक देश में 58 पार्टियां रजिस्टर्ड हुई व 15 मार्च, 2019 के बाद देश में 48 नई पार्टियां रजिस्टर्ड हुई हैं। जिनमें पंजाब में 4, हरियाणा में 3, नई दिल्ली में  6, तामिलनाडु में 5, महाराष्ट्र में 7, उत्तर प्रदेश में 6, तेलंगाना में 2, बिहार में 5, केरला में 1, जम्मू व कश्मीर में 1, गुजरात में 2, मध्य प्रदेश में 1, कर्नाटक में 1, पश्चिमी बंगाल में 1 पार्टी ने रजिस्ट्रेशन ली। पंजाब में इंडियन नैशनल कांग्रेस, भारतीय जनता पार्टी, बहुजन समाज पार्टी, सी.पी.आई.एम. व सी.पी.आई. राष्ट्रीय पार्टियां है। जबकि आम आदमी पार्टी व शिरोमणि अकाली दल मान्यता प्राप्त प्रदेश स्तरीय पार्टियां हैं। पंजाब के अंदर नवां पंजाब पार्टी पटियाला, नेशनलिस्ट जस्टिस पार्टी लुधियाना, पंजाब एकता पार्टी फरीदकोट, शिरोमणि अकाली दल टकसाली अमृतसर, अपना पंजाब पार्टी एस.ए.एस. नगर, अखिल भारतीय शिवसेना राष्ट्रवादी लुधियाना, आल इंडिया भारतीय जग पार्टी मानसा, आल इंडिया किसान मज़दूर मोर्चा फिरोज़पुर, आल इंडिया लोकराज पार्टी लुधियाना, आल इंडिया मज़दूर पार्टी रंगरेटा अमृतसर, आल इंडिया शिरोमणि बाबा जीवन सिंह मजहबी दल मजीठा, बहुजन समाज पार्टी अम्बेदकर कपूरथला, बहुजन संघर्ष पार्टी कांशी राम रोपड़, ब़ेगमपुरा सांझा फ्रंट जालन्धर, भारतीय मुहब्बत पार्टी आल इंडिया बठिंडा, भारतीय लोक लहर पार्टी अमृतसर, भारतीय जन सुरक्षा पार्टी होशियारपुर, डैमोक्रेटिक भारतीय समाज पार्टी जालन्धर, डैमोक्रेटिक कांग्रेस पार्टी अमृतसर, डैमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया अंबेदकर शहीद भगत सिंह नगर, डैमोक्रेटिक स्वराज पार्टी एस.ए.एस. नगर, गरीब जनता पार्टी अमृतसर, हिन्दोस्तान शक्ति सेना पटियाला, इंडियन आर्थिक सुधार पार्टी जालन्धर, इंडियन क्रांतिकारी लहर फरीदकोट, जय जवान जय किसान पार्टी पटियाला, जन शक्ति पार्टी ऑफ इंडिया लुधियाना, जनरल समाज पार्टी बठिंडा, लोकहित राष्ट्रीय विकास पार्टी संगरूर, लोक इंसाफ पार्टी लुधियाना, मूल भारती एस. पार्टी फरीदकोट, नैशनल अधिकारी इंसाफ पार्टी श्री मुक्तसर साहिब, पीपुल्स पार्टी ऑफ पंजाब श्री मुक्तसर साहिब, फूले भारतीय लोक पार्टी अमृतसर, पंजाब डैमोक्रेटिक पार्टी एस.ए.एस. नगर, पंजाब लेबर पार्टी श्री मुक्तसर साहिब, पंजाब विकास कांग्रेस पार्टी जालन्धर, पंजाब दल संगरूर, शिरोमणि अकाली दल (अमृतसर) फतेहगढ़ साहिब, साडा पंजाब पार्टी लुधियाना, समाज अधिकारी कल्याण पार्टी मोहाली, समाज भलाई मोर्चा होशियारपुर, सवर्जन समाज पार्टी डी. गुरदासपुर, सहजधारी सिख पार्टी लुधियाना, सर्व भलाई पार्टी अमृतसर, शिरोमणि लोक दल पार्टी अमृतसर, शिरोमणि यूथ अकाली दल काहलों अमृतसर, विशाल पार्टी ऑफ इंडिया होशियारपुर चुनाव आयोग के पास रजिस्टर्ड पार्टियां हैं। नई पार्टी को 1 महीने में रजिस्टर्ड करवाना ज़रूरी : भारत के किसी भी राज्य में अगर कोई भी समूह नई राजनीतिक पार्टी बनाता है, तो उसको पार्टी बनाने से एक महीने के अंदर-अंदर भारतीय चुनाव आयोग के पास अपनी पार्टी रजिस्टर्ड करवाने के लिए आवेदन करना होता है। भारतीय चुनाव आयोग पार्टी को 1951 लोक प्रतिनिधिता एक्ट की धारा 29 ए. के सब सैक्शन 4 बी. के तहत रजिस्टर्ड करता है। पार्टी रजिस्टर्ड करवाने के लिए पार्टी का नाम, मैंबरशिप, पदाधिकारियों, नियमों,  शर्तों, पार्टी का संविधान, अंडर सैक्रेटरी भारतीय चुनाव आयोग के हक में 10 हज़ार रुपए का डिमांड ड्राफ्ट, मैमोरंडम की कापी, प्रधान या महासचिव द्वारा एक हल्फिया बयान, 100 सदस्यों के हस्ताक्षरों वाला हल्फिया बयान, नकदी व अन्य जायदाद संबंधी हल्फिया बयान, आपराधिक मामलों या सज़ा होने बारे हल्फिया बयान देना होता है। उस के बाद अखबार में पार्टी के नाम बारे इश्तिहार प्रकाशित करके ऐतराज पूछे जाते हैं, अगर किसी भी व्यक्ति को ऐतराज नहीं होता तो पार्टी रजिस्टर्ड हो जाती है। भारतीय चुनाव आयोग द्वारा रजिस्टर्ड होने वाली पार्टी अगर रजिस्ट्रेशन के 6 साल अंदर कोई भी लोकसभा या विधानसभा चुनाव नहीं लड़ती, तो उस की रजिस्टेशन रद्द कर दी जाती है। राष्ट्रीय मान्यता प्राप्त पार्टी बनाने के लिए नियम व शर्तें : भारतीय चुनाव आयोग के पास रजिस्टर्ड होने वाली पार्टी में अगर कोई भी पार्टी आम लोकसभा या विधानसभा चुनाव में लोकसभा या विधानसभा की कुल सीटों में 3 अलग-अलग राज्यों में 2 फीसदी सीटें जीतती है, कोई भी पार्टी 4 राज्यों में 6 फीसदी से ज्यादा वोटें प्राप्त करती है, तो उसको भारतीय चुनाव आयोग द्वारा राष्ट्रीय मान्यता प्राप्त पार्टी बनाया जाता है। प्रदेश स्तरीय मान्यता प्राप्त पार्टी बनाने के लिए नियम व शर्तें : प्रदेश स्तरीय रजिस्टर्ड पार्टियों में अगर कोई भी पार्टी प्रदेश की कुल विधानसभा सीटों की 3 फीसदी सीटों या कम से कम 3 सीटों से जीत प्राप्त करती है, 25 लोकसभा की सीटों के पीछे 1 लोकसभा सीट जीतती है, लोकसभा या विधानसभा में कुल डाली गई वोटों में 6 फीसदी वोटें प्राप्त करती है, 1 लोकसभा या 2 विधानसभा सीटों से जीत प्राप्त करती है व कोई भी लोकसभा या विधानसभा सीटें न जीतने वाली वह पार्टी जिस ने कुल डाली गई वोटों में 8 फीसदी वोटें प्राप्त की हों, उसको प्रदेश स्तरीय मान्यता प्राप्त पार्टी बनाया जाता है। उत्तर प्रदेश में पंजाब पीपल्स पार्टी रजिस्टर्ड : देश के हर राज्य में अपने राज्य के नाम के साथ ही पार्टियां बनाई गई हैं, पर देश के सब से बड़े राज्य उत्तर प्रदेश में भी पंजाब का दबदबा है, क्योंकि भारतीय चुनाव आयोग के पास अलग-अलग राज्यों की जो पार्टियां रजिस्टर्ड हुई हैं, उनमें उत्तर प्रदेश में एक पंजाब पीपल्स पार्टी नाम की पार्टी भी रजिस्टर्ड है।