शिक्षा विभाग द्वारा पुस्तकें खरीदने के निर्देश शक के घेरे में


लुधियाना, 9 जून (अ.स.): भारत सरकार द्वारा समग्र शिक्षा विभाग के तहत शिक्षा विभाग पंजाब द्वारा राज्य के सारे प्राइमरी एवं मिडल स्कूलों की लाइब्रेरियों हेतु साहित्यिक किताबें खरीदने सम्बन्धी लगभग 522 लाख रुपए रखे हैं, जिसके तहत हर प्राइमरी स्कूल हेतु लगभग 3 हज़ार रुपए एवं मिडल स्कूल हेतु 5 हज़ार रुपए राशि मंजूर की है। विभाग ने राज्य के स्कूल प्रमुख को निर्देश जारी किए हैं, जिनमें से विभाग ने स्कूलों की लाइब्रेरियों हेतु खरीदी जाने वाली किताबें रंगीन आर्ट पेपर पर 8 गुणा 11 के बड़े साईज की होने, प्रसिद्ध एवं पुरस्कार विजेता लेखकों की रंगीन किताबें ही खरीद करें, किसी भी किताब एक से ज्यादा खरीद न करें और 30 जून तक किताबों की खरीद आदि करने के निर्देश शामिल हैं। इस सम्बन्धी जानकारी देते लाहौर बुक शाप के मालिक एवं पंजाबी पब्लिशज़र् एसोसिएशन के पदाधिकारी गुरमन्नत सिंह ने बताया कि जो शिक्षा विभाग पंजाब द्वारा स्कूल प्रमुखों को दिए निर्देशानुसार किताबें खरीदने के आदेश दिए हैं। उस सम्बन्धी वह पहले शिक्षा मंत्री ओ.पी. सोनी को मिलकर दोबारा विचार करने हेतु पंजाबी पब्लिशज़र् एसोसिएशन पंजाब द्वारा मांग पत्र दिया गया था परन्तु कई दिन बीत जाने पर उस पर कोई विचार हुआ दिखाई नहीं दे रहा। उन्होंने कहा कि विभाग द्वारा एक दो प्रकाशकों को खुश करके शेष प्रकाशकों के घरों के चूल्हे बंद करने हेतु यह फैसला लिया लगता है।