पैडी सीज़न के पहले दिन बढ़ी 1900 मैगावाट बिजली की मांग


जालन्धर, 13 जून (शिव शर्मा): राज्य में पैडी सीज़न की शुरुआत के पहले दिन ही बिजली की मांग में 1900 मैगावाट की वृद्धि हो गई तथा ट्यूबवैलों के लिए लगातार 8 घंटे निर्विघ्न बिजली सप्लाई देने के लिए पावरकाम के अपने थर्मल प्लांट से बिजली उत्पादन का काम शुरू हो गया है। इस समय पावरकाम के पास बिजली की मांग 11141 मैगावाट तक पहुंच गई है। बुधवार को जहां बिजली की मांग 9234 मैगावाट थी परन्तु एक दिन में ही इसकी मांग 1900 मैगावाट तक पहुंची है। पिछले वर्ष पैडी की बिजाई के पहले दिन बिजली की मांग 1363 मैगावाट बढ़ी थी तथा पिछले वर्ष पैडी के एक दिन पहले 8621 मैगावाट थी जोकि पैडी सीज़न के शुरू होने पर 10184 मैगावाट तक पहुंच गई थी। पैडी सीज़न के शुरू होने के साथ ही बिजली ज़रूरत को पूरा करने के लिए पावरकाम के अपने लहरा मुहब्बत व रोपड़ थर्मल प्लांट से बिजली उत्पादन शुरू हो गया है। रोपड़ थर्मल प्लांट के दो यूनिटों व लहर मुहब्बत प्लांट का एक यूनिट बिजली का उत्पादन कर रहा है। गत दिनों इन यूनिटों से बिजली उत्पादन शुरू कर दिया गया था। पैडी सीज़न की शुरुआत से पहले बुधवार को पंजाब में बिजली की सप्लाई 1855 लाख यूनिट थी जिसमें थर्मल प्लांट की 556 लाख यूनिट थी। निजी क्षेत्र में राजपुरा थर्मल प्लांट ने 233 लाख यूनिट व तलवंडी साबो ने 244 लाख यूनिट बिजली की सप्लाई की थी। इस वर्ष बिजली की अधिक से अधिक मांग 14000 मैगावाट तक जाने की सम्भावना है तथा इसके प्रबंध पावरकाम ने पहले ही कर लिए हैं। पिछले वर्ष यह मांग 12638 मैगावाट तक पहुंची थी। निजी क्षेत्रों सहित राज्यों के बिजली उत्पादन की समर्था 6110 मैगावाट के अतिरिक्त केन्द्रीय क्षेत्र के थर्मल प्लांट के हिस्से से 4580 मैगावाट, पनबिजली से 1162 मैगावाट व 859 मैगावाट सोलर बिजली उत्पादन की समर्था है। इसके अतिरिक्त बी.बी.एम.बी. के बिजली घरों में इसकी हिस्सेदारी है तथा अलग राज्यों से बैंकिंग प्रणाली के तहत बिजली की वापस सप्लाई पावरकाम को मिल रही है। सी.ए.ए. की रोज़ाना रिपोर्ट अनुसार रोपड़ थर्मल प्लांट व लहरा थर्मल प्लांट में कोयले का स्टाक 88 व 60 दिन का है।