पंचायतों में पक्षपात की वजह से नहीं होता विकास


अमरगढ़, 16 जून (अ.स.) : पंजाब के तकरीबन 50 हज़ार चुने हुए पंचायत सदस्यों को कभी भी पंचायती कार्रवाईयों में अब तक हिस्सेदार नहीं बनाया गया। सब-तहसील अमरगढ़ के चुने हुए कुछ गांवों के पंचों ने पत्रकारों को अपना दुखड़ा बताकर यह खुलासा किया कि हमें किसी भी पंचायती कार्रवाई में शामिल नहीं किया जाता। यह 100 फीसदी सच है कि लगभग 40 फीसदी पंचायत सदस्यों ने कार्रवाई रजिस्टर पर कभी दस्तखत ही नहीं किए। यह चुने हुए पंच अपने वार्डों के विकास के लिए जिम्मेवार होते हैं पर सरपंचों द्वारा विरोधी पंचों के वार्डों की अनदेखी की जाती है और इस तरह सारे वार्डों का कोई विकास नहीं होता। इन पंचायत सदस्यों ने ग्राम पंचायत और गांव विकास मंत्री से मांग की है कि सरकार एक सर्कुलर जारी करे जिसमें यह स्पष्ट लिखा हो कि कोई भी मीटिंग सरपंच के घर नहीं होगी सिर्फ पंचायत घरों या सांझे स्थानों पर होगी और इन मीटिंगों में सभी सदस्यों को बुलाना भी कानून ज़रूरी होगा।