बोर्ड ने 1050 सरकारी स्कूलों को 10वीं व 12वीं श्रेणी के लिए ओपन स्कूल की मान्यता दी


एस. ए. एस. नगर, 11 जुलाई (तरविंद्र सिंह बैनीपाल): पंजाब स्कूल शिक्षा बोर्ड द्वारा अर्ध बीच में स्कूल की पढ़ाई छोड कर जाने वाले विद्यार्थियों को अपने कार्य दौरान दोबारा पढ़ाई पूरी करने के लिए शुरू किए ओपन स्कूल तहत शिक्षा बोर्ड द्वारा 1050 सरकारी स्कूलों को 10वीं और 12वीं श्रेणी के लिए ओपन स्कूल की मान्यता जारी करने के लिए सबंधित स्कूलों की लॉगइन आईडी पर पत्र अपलोड कर दिया गया है। डीजीएसई पंजाब द्वारा इन 1050 स्कूल प्रभारियों को हिदायत की गई है कि वे 18 जुलाई तक शिक्षा बोर्ड की वैबसाईट से बैंक चलान जनरेट करने पश्चात 19 जुलाई को मिले हुए फंड से मान्यता फीस जमा करवा कर इस सबंधी 23 जुलाई तक रिपोर्ट दें। इन सरकारी स्कूलों में ओपन स्कूल अध्यन केन्द्र शुरू होने के साथ कई प्राइवेट ओपन स्कूल अध्यन केन्द्रों के प्रबंधकों द्वारा विद्यार्थियों के किए जा रहे आर्थिक शोषण पर रोक लगेगी और गत् कई वर्षों से ओपन स्कूल में विद्यार्थियों की लगातार कम हो रही संख्या में भी वृद्धि होने के आसार हैं। प्राप्त जानकारी अनुसार पंजाब स्कूल शिक्षा बोर्ड की 12वीं श्रेणी की ओपन स्कूल की मार्च-2017 की वार्षिक परीक्षा में 29,677 परिक्षार्थी, मार्च-2018 में 26,921 परिक्षार्थी और मार्च-2019 में 21,690 ओपन स्कूल के परिक्षार्थियों ने परीक्षा दी थी। इसी तरह 10वीं श्रेणी की ओपन स्कूल की मार्च-2017 की वार्षिक परीक्षा में 25,446 परिक्षार्थियों, मार्च-2018 में 31,756 परिक्षार्थी, जबकि मार्च-2019 में 25,017 ओपन स्कूल परिक्षार्थियों ने परीक्षा दी थी। प्राप्त जानकारी अनुसार शैक्षिक सैशन 2018-19 में 10वीं श्रेण्ी के लिए 545 ओपन स्कूल अध्यन केन्द्र और 12वीं श्रेणी के 393 केन्द्र थे, जबकि इस शैक्षिक सैशन 2019-20 के लिए 10वीं श्रेणी के लिए 505 केन्द्र और 12वीं श्रेणी के लिए 392 केन्द्र बनाए गए हैं। इसके अलावा 1050 सरकारी स्कूलों में ओपन स्कूल अध्यन केन्द्र चलाने का फैसला किया गया है। इस सबंधी रैकोग्नाईज़ड एफीलिएटिड स्कूल एसोसिएशन (रासा) के अध्यक्ष डा. रविंद्र सिंह मान का कहना है कि शिक्षा बोर्ड के ओपन स्कूल शाखा द्वारा विद्यार्थियों के लिए पास फार्मूला और विषयों का चयन रेगूलर विद्यार्थियों वाला कर देने कारण का झुकाव नैशनल इंस्टीच्यूट आफ ओपन स्कूल व पंजाब से बाहरी बोर्डों की तरफ बढ़ रहा है, क्योंकि अन्य बोर्डों के ओपन स्कूल में विषयों का चयन की छुट पर कोई पांच विषयों से पास वाला फार्मूला लागू है।