सख्ती से लगे तम्बाकू पर प्रतिबं


तम्बाकू का प्रयोग करने से न सिर्फ मुंह, गले या फेफड़ों का कैंसर होता है बल्कि अन्य बीमारियां टी.बी, सांस, दमा व पेट के रोग भी लगते हैं। इसी प्रकार धूम्रपान भी स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। इससे धूम्रपान करने वाले को तो बीमारी लगनी ही है। साथ ही उसके पास बैठे व्यक्ति को भी सिगरेट इत्यादि का धुआं अहितकारी है। अत: सिगरेटनोशी वाले व्यक्ति के पास बैठना भी नहीं चाहिए। देखने में तो तम्बाकू, गुटके इत्यादि पर सरकार द्वारा पूर्णत: प्रतिबंध है पर गांवों, नगरों के हरेक कोने पर यह आसानी से उपलब्ध हो जाता है, फिर काहे का प्रतिबंध? चलान काट देने से इस समस्या पर काबू आसानी से नहीं पाया जा सकता, जब तक तम्बाकू का सेवन करने वालों पर सख्ती न बरती जाये। इस नशे को समाप्त करने के लिए स्वयं सेवी संगठन व प्रशासन पूरा ध्यान दें। लोग भी अपनी ज़िम्मेदारी समझें।
-वीरेन्द्र शमा