बाढ़ से हुए नुकसान का आकलन करेगी केन्द्रीय टीम


चंडीगढ़, 25 अगस्त (भाषा) : बाढ़ग्रस्त पंजाब में नुकसान का आकलन करने के लिए एक केंद्रीय टीम जल्द ही राज्य का दौरा करेगी। राज्य के कुछ हिस्सों में रविवार को भी जमकर बारिश हुई। इस बीच, मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेन्द्र सिंह ने सभी मंत्रियों और उपायुक्तों को सतर्कता बढ़ाते हुए राहत कार्यों की देखरेख का निर्देश दिया। मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेन्द्र सिंह ने एक उच्च स्तरीय बैठक में फिरोजपुर, जालन्धर, कपूरथला और रूपनगर ज़िलों में बाढ़ की स्थिति की समीक्षा की। इस बैठक में मुख्यमंत्री के मुख्य प्रधान सचिव सुरेश कुमार एवं राज्य के मुख्य सचिव करन अवतार सिंह भी मौजूद थे। पंजाब सरकार की ओर से जारी बयान में यहां कहा गया कि मुख्यमंत्री के आग्रह पर केंद्रीय गृह मंत्रालय ने एक टीम भेजने का निर्णय किया है जो राज्य में बाढ़ से हुए नुकसान का जायज़ा लेगी। उन्होंने कहा कि केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला ने राज्य सरकार को सूचित किया है कि बाढ़ प्रभावित 11 राज्यों के साथ साथ पंजाब में भी एक केंद्रीय टीम भेजी जाएगी जो बाढ़ से हुए नुकसान का आकलन करेगी। मुख्यमंत्री ने रविवार को जल संसाधन विभाग को फिरोजपुर के तेंदीवाला गांव में तटबंध को मज़बूत करने के लिए सेना के अधिकारियों के साथ एक संयुक्त कार्य योजना बनाने को कहा है। कपूरथला ज़िले के संबंध में रविवार की बैठक के दौरान मुख्यमंत्री को अवगत कराया गया कि ज़िले में बाढ़ के कारण न किसी व्यक्ति की मौत और न ही किसी पशु के मरने की सूचना है। मुख्यमंत्री को बताया गया कि ज़िला प्रशासन ने गांव के स्तर पर 20 बाढ़ राहत दल का गठन किया है जो बाढ़ प्रभावित इलाके में 24 घंटे तैनात हैं। इस बीच करन अवतार सिंह के नेतृत्व में आपदा प्रबंधन सचिवों की राज्य के विभिन्न ज़िलों में बाढ़ के कारण पैदा हुई स्थिति का जायजा लेने के लिए सोमवार को बैठक होगी। राज्य के कुछ हिस्सों में भारी बारिश से जालन्धर, कपूरथला, फिरोज़पुर और रूपनगर सहित कई ज़िलों में खड़ी फसलों और आवासीय क्षेत्रों में भारी नुकसान हुआ है।