स्कूल शिक्षा में नई पहलकदमियों तथा बेहतर प्रबंधों संबंधी उत्तरीय राज्यों की दो दिवसीय कांफ्रैंस आरंभ


चंडीगढ़,1 जून (चौधरी) : स्कूल शिक्षा ढांचे में सुधार लाने, गुणात्मक शिक्षा पर बल देने और विभिन्न राज्यों द्वारा किये जा रहे बढ़िया प्रयासों को सांझा करने के उद्धेश्य से आज यहां चंडीगढ़ में उत्तरीय भारत के 8 राज्यों की शिक्षा संबंधी क्षेत्रीय कान्फ्रेंस की शुरूआत हुई। केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय के सहयोग से पंजाब के स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा करवाई जा रही इस कान्फ्रेंस का उद्घाटन मानव संसाधन विकास मंत्रालय के केंद्रीय राज्यमंत्री उपेंद्र कुशवाहा ने पंजाब की शिक्षा मंत्री श्रीमती अरूना चौधरी की उपस्थिति में किय। इस कान्फ्रेंस में मेज़बान पंजाब के अतिरिक्त जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, दिल्ली एवं चंडीगढ़ (यू टी) हिस्सा ले रहें हैं।  कान्फ्रेंस के आरंभ में मुख्य अतिथि केंद्रीय मंत्री श्री कुशवाहा तथा विभिन्न राज्यों से आये डेलीगेट का स्वागत करते हुये पंजाब की शिक्षा मंत्री श्रीमती चौधरी ने कहा कि पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह का सपना है कि पंजाब शिक्षा के क्षेत्र में देश के अग्रणीय राज्यों में आये जिसके लिये वह सबसे अधिक पहल शिक्षा विभाग को दे रहें हैं। श्रीमती चौधरी ने कहा कि पंजाब सरकार की मुख्य पहल निम्न वर्ग के बच्चों को गुणात्मक शिक्षा प्रदान कर उनको पैरों पर खड़ा करना है जिसके लिये प्राईमरी स्तर से शिक्षा सुधारों की शुरूआत की जा रही है। कान्फ्रेंस का उद्घाटनी भाषण देते हुये कें द्रीय राज्य मंत्री श्री उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि स्कूल शिक्षा के क्षेत्र में बेहतर सुधार लाना एक निरंतर प्रक्रिया है। उन्होंने कहा कि मंत्रालय का एक ही उद्धेश्य गुणात्मक शिक्षा पर बल देना है। उन्होंने कहा कि कान्फ्रेंस का उद्धेश्य यही है विभिन्न स्थानों पर हो रहे बेहतर प्रयासों को और फैलायें तथा सभी राज्यों को जागरूक करना है।