अब युद्ध के मैदान में दुश्मन का मुकाबला करेंगी महिलाएं


नई दिल्ली, 4 जून (एजैंसी/ उपमा डागा पारथ) : भारतीय सेना में महिलाओं को लड़ाकू भूमिका देने के लिए सेना ने कमर कस ली है। भारतीय सेना जल्द ही लड़ाकू भूमिका में महिलाओं की नियुक्ति करेगी। वर्णनीय है कि वैश्विक स्तर पर कुछ ही देश है, जहां महिलाएं सेना में पुरुषों के साथ कंधे के कंधे मिलाकर मोर्चे पर लड़ती हैं। सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने कहा कि महिलाओं को लड़ाकू भूमिका देने की तैयारी शुरू हो गई है। मौजूदा दौर में केवल पुरुष ही लड़ाकू भूमिका में रखे जाते हैं। इसके लिए सबसे पहले मिलिट्री पुलिस में महिलाओं की नियुक्ति होगी। जनरल रावत ने कहा, ‘मैं महिलाओं को जवान के रूप में नियुक्त करने के बारे में सोच रहा हूं। पहले, हम मिलिट्री पुलिस जवान के रूप में शुरुआत करेंगे।’ मौजूदा समय में महिलाओं की नियुक्ति कुछ चुनिंदा क्षेत्रों में ही होती है। इसमें मैडीकल, लीगल, शिक्षा, सिग्नल और इंजीनियरिंग विंग हैं। ऑपरेशनल चुनौतियों और लॉजिस्टिकल मामलों के चलते महिलाओं को अब तक लड़ाकू भूमिकाओं में नहीं रखा जाता है। सेना प्रमुख बिपिन रावत ने कहा कि वह महिलाओं की नियुक्ति के लिए तैयार हैं और इस पर सरकार के साथ बातचीत चल रही है। रावत ने कहा कि महिलाओं की नियुक्ति की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। उन्होंने कहा कि लड़ाकू भूमिका में महिलाओं को अपनी ताकत और दृढ़ता दिखानी होगी, ताकि बनी बनाई प्रथाएं तोड़ी जा सकें।