बी.आर.टी.एस. प्रोजैक्ट के कारण अमृतसर में काटे 20 हज़ार पेड़


अमृतसर, 8 जुलाई (हरजिंदर सिंह शैली): हरियावल फाऊंडेशन द्वारा ज़िले में हरियाली को लेकर एक सैमीनार करवाया गया। समागम में डा. धर्मवीर अग्निहोत्री, सुनील दत्ती, हरमिंदर गिल (सभी विधायक), एडवोकेट करनजीत सिंह, डा. अवतार सिंह, डा. जोगिंदर सिंह कैरों, वायस आफ अमृतसर से इंदु अरोड़ा, सुरिंदर कंवल, राणा गंडीविंड ने मुख्य रूप में शिरकत की। हरियावल फाऊंडेशन की ‘रुक्ख लगाओ, मनुक्ख बचाओ’ नामक अभियान आज चेयरमैन परमजीत सिंह ढिल्लों के नेतृत्व में शुरू हुआ। इस अवसर पर सम्बोधित करते हुए विधायक सुनील दत्ती ने कहा कि पेड़ व मनुष्य का ज़िंदगी से लेकर मौत तक का रिश्ता है परंतु इन्सान अपने थोड़े-थोड़े फायदों के लिए पेड़ों की कटाई कर पर्यावरण को दूषित करने में भागीदारी बन रहे हैं। उन्होंने कहा कि वह खुद अमृतसर में 10 हज़ार पौधे लगवाएंगे। विधायक हरमिंदर सिंह गिल ने कहा कि दूषित हो रही आबो-हवा व दूषित पर्यावरण के लिए हम खुद ज़िम्मेवार हैं। उन्होंने कहा कि यदि इसी प्रकार कटाई होती रही तो हमें सांस लेना भी मुश्किल हो जाएगा। उन्होंने यह भी कहा कि वह 2 लाख पौधे व जंगले फाऊंडेशन को देंगे। विधायक डा. धर्मवीर अग्निहोत्री  ने कहा कि पेड़ों की कटाई व पर्यावरण को दूषित कर हम खुद  अपनी मौत को निमंत्रण दे रहे हैं। यह पेड़ मनुष्य की ज़िंदगी का स्रोत हैं, परंतु हम अपनी ज़िंदगी के स्रोत को ही खत्म करते जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि पेड़ों का अस्तित्व खत्म होने का मतलब है कि हम लगातार भयानक बीमारियों की जकड़ में आ रहे हैं। उन्होंने कहा कि पेड़ों की कटाई को रोकने के लिए पंजाब सरकार सख्त कानून बनाएगी।
इस अवसर पर डा. अमनदीप सिंह ने कहा कि पूर्व सरकार द्वारा शुरू किए गए बी.आर.टी.एस. प्रोजैक्ट का ज़िले के लोगों को फायदा तो कोई नहीं हुआ परंतु इसके कारण शहर में से 20 हज़ार पेड़ों की कटाई ज़रूर की गई। पेड़ों की कटाई के बाद सड़कों के इर्द-गिर्द कोई पेड़ नहीं लगाया गया। इस समय हालात यह हैं कि जी.टी. रोड व बस अड्डे से लेकर छहर्टा तक सड़कों के इर्द-गिर्द कोई पेड़ नज़र नहीं आता और लोगों को मजबूरन धूप में खड़ा होना पड़ता है। उन्होंने कहा कि हरियावल फाऊंडेशन बहुत बढ़िया प्रयास कर रही है और वह खुद नर्सरी लगाने के लिए अपनी ज़मीन देंगे। इससे पूर्व हरियावल फाऊंडेशन के चेयरमैन परमजीत सिंह ढिल्लों ने फाऊंडेशन संबंधी जानकारी देते हुए कहा कि फाऊंडेशन द्वारा 7 वर्ष पहले जो मिशन लाया गया था उस मिशन का पहला पड़ाव आज पूरा हो गया है। उन्होंने बताया कि गत 70 वर्षों में फाऊंडेशन संबंधी जानकारी देते हुए कहा कि फाऊंडेशन द्वारा 7 लाख पौधे लगाए गए और मुफ्त बांटे गए। फाऊंडेशन द्वारा 2016 में 250 सरकारी व गैर-सरकारी स्कूल गोद लेकर पौधे लगाए गए हैं। उन्होंने कहा कि फाऊंडेशन द्वारा आधा एकड़ ज़मीन में अपनी नर्सरी बनाई है और यहां पौधों की उपज करते पर्यावरण प्रेमियों को मुफ्त पौधे दिए जाते हैं। 
इस अवसर पर गुरु नानक देव यूनिवर्सिटी के वरिष्ठ प्रो. महिंदर सिंह बराड़ ने कहा कि मनुष्य की आयु लगभग 60 वर्ष रह गई है और 60 वर्षों में हर व्यक्ति 16 पेड़ों की आक्सीजन खत्म करता है। उन्होंने बताया कि उनके द्वारा यूनिवर्सिटी में पीपल व बरगद के 100 पौधे लगाए हैं। इस अवसर पर फाऊंडेशन के महासचिव कंवलजीत सिंह मानांवाला, प्रसिद्ध भाषा वैज्ञानिक डा. वरियाम सिंह बल, प्रिंसीपल रिपु दमन, बाबा बलविंदर सिंह कारसेवा वाले, विक्रम सिंह ढिल्लों, हरजिंदर सिंह ढिल्लों, परमवीर सिंह, पूर्व सरपंच तरलोक सिंह, जसबीर सिंह सुर सिंह, एडवोकेट रवि भुल्लर, तरलोचन सिंह जोधनगरी, पलविंदर सिंह, रणजीत सिंह दयोल, संजीव भारद्वाज, कंवलजीत सिंह, प्रो. इंद्रजीत सिंह, डा. साहिब सिंह, जगदीप थिंद, विजयपाल सिंह ढिल्लों, गुनराज सिंह, एडवोकेट सुलतान सिंह गिल, जत्थेदार जरनैल सिंह, जगमीत सिंह, जगजीत सिंह ढिल्लों, नवरूप सिंह आदि मौजूद थे।