अमरीका में भारतीय बालिका की तलाश के लिए ड्रोन का इस्तेमाल


ह्यूस्टन 18 अक्तूबर (भाषा) : अमेरिका में रहस्यमयी परिस्थितियों में 11 दिन पहले लापता हुई तीन वर्षीय भारतीय बालिका की तलाश में टेक्सास के रिचर्डसन में पुलिस ड्रोनों का इस्तेमाल कर रही है. दूध नहीं पीने पर लड़की के पिता ने उसे घर के बाहर गली में छोड़ा था जिसके बाद वह लापता हो गयी थी। शेरीन मैथ्यूज गत सात अक्तूबर को लापता हो गयी थी जिसके बाद उसके पिता वास्ले मैथ्यूज ने पुलिस को बताया कि दूध नहीं पीने पर सजा के रुप में बालिका को वह देर रात तीन बजे घर के बाहर छोड़ गया था। शेरीन, वास्ले की गोद ली हुई बेटी है। बच्ची को लापता हुए दस दिन बीत चुके हैं। जांचकर्ताओं को हालांकि अभी भी बच्ची के मिलने की उम्मीद है।  सार्जेंट केविन पेलचिच ने कहा,   हमने उम्मीद नहीं छोड़ी है. उसके जिंदा मिलने की उम्मीद है लेकिन हमारे पास वक्त बहुत कम है. इसलिए हम इस मामले का जल्द से जल्द समाधान करने का प्रयास कर रहे है। जॉनसन काउंटी शेरिफ का कार्यालय और मैंसफील्ड पुलिस विभाग शेरिन मैथ्यूज की तलाश के लिए रिचर्डसन पुलिस विभाग की मदद कर रहा है।
     पुलिस ने बताया कि उन्होंने जांच के दौरान खेतों, संकरी खाड़ी और जंगली क्षेत्रों समेत कई ऐसे स्थानों पर तलाश की जहां बच्ची हो सकती थी। इसके बाद तलाश में मदद के लिए खोजी कुत्तों को मौके पर लाया गया।     शेरिन की तलाश में अधिकारियों की मदद के लिए ड्रोन का इस्तेमाल किया जा रहा है। रिचर्डसन पुलिस ने फेसबुक पर कहा ,  जांचकर्ता आज के प्रयासों के परिणामों का मूल्यांकन करेंगे जबकि जांच जारी है।  इस बीच एक पादरी ने मैथ्यूज परिवार के घर के बाहर एक साइन बोर्ड लगाकर शेरिन अभिभावकों से  सच्चाई बताने   के लिए कहा है। पुलिस के अनुसार मैथ्यूज के अभिभावक जांच में सहयोग नहीं कर रहे है।