हनीप्रीत की डेरा प्रमुख के साथ नेपाल के रास्ते विदेश भागने की थी योजना 


चंडीगढ़, 14 दिसंबर : डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम की मुंहबोली बेटी हनीप्रीत व अन्य अभियुक्तों के खिलाफ एसआईटी द्वारा दायर की गई चार्जशीट में कई अन्य अह्म खुलासे हुए हैं। इन खुलासों में गुरमीत राम रहीम को दोषी ठहराए जाने के बाद कोर्ट से बाहर निकलते हुए हनीप्रीत द्वारा तयशुदा प्रोग्राम के अनुसार राकेश पीए को गर्दन हिलाकर इशारा किया गया। राकेश पीए ने इशारा पाते ही अभिजीत उर्फ बबलू को इशारा करके हिंसा फैलाई गई थी। यह पहले से ही तय हो गया था कि गुरमीत राम रहीम को अगर कोर्ट से सजा मिली या दोषी ठहराया गया तो हनीप्रीत गर्दन हिलाकर डेरा प्रमुख के पीए राकेश को इशारा करेगी और हनीप्रीत का इशारा पाकर पीए राकेश आगे अभिजीत उर्फ बबलू को इशारा देगा और उसके बाद हिंसा व तोड़फोड़ की जायेगी ताकि प्रशासन का ध्यान इधर हो जाए और डेरा प्रमुख को भगाने की योजना सफल हो सके। गांव गुरूसर मोड़िया से हनीप्रीत का अटैची दस्तावेज सहित बरामद : हनीप्रीत ने पुलिस को यह भी बताया था कि कोर्ट से फरार होने के बाद पिताजी (डेरा प्रमुख)के साथ हनीप्रीत के नेपाल के रास्ते देश भाग जाने के लिए डेरा से संबंधित सभी गोपनीय/प्रॉपर्टी के दस्तावेज, बैंक के चेकबुक, क्रेडिट कार्ड व पासपोर्ट इत्यादि इकट्ठे करके एक अटैची में हनीप्रीत ने 25 अगस्त को अपने साथ रखे थे। हनीप्रीत ने यह भी खुलासा किया कि (गुरमीत राम रहीम) को भगाने में कामयाब न होने पर वे कहां-कहां भूमिगत रही इसका पूरा खुलासा भी उसने एसआईटी को पूछताछ के दौरान दिया है। पुलिस ने हनीप्रीत के छिपने के ठिकानों की निशानदेही करने के अलावा उन ठिकानों से हनीप्रीत के दस्तावेजों वाला अटैची, कपड़े बरामद कर लिए जबकि हनीप्रीत का मोबाईल फोन डेरे की चेयरपर्सन विपासना ने पुलिस के हवाले कर दिया। डेरे से जाते वक्त हनीप्रीत ने विपासना को सौंपा था अपना मोबाईल : हनीप्रीत ने एसआईटो यह भी बताया कि 27 अगस्त को दस्तावेजों की अटैची लेकर जयपुर जाते समय हनीप्रीत ने अपना लैपटॉप डायनिंग टेबल विपासना के पास छोड़कर, विपासना को संभालकर रखने के लिए कहकर 25 अगस्त को प्रयोग किया गया एप्पल मोबाईल को विपासना को रखने के लिए देकर गई। हनीप्रीत ने यह भी बताया कि वह भूमिगत रहने के दौरान इकबाल उर्फ बग्गड़ के दोस्त गुरमीत उर्फ गोगा की गंगा नगर के नजदीक कौर सिंह की ढाणी में प्रगट सिंह के घर पर रहने के अलावा सुखदीप कौर के मकान में छिपकर रहने इकबाल की बुआ शरणजीत कौर और उसके लड़के गुरमीत सिंह के घर बठिंडा जिले के गांव जंगीराणा में भी छिपकर रही। उसने यह भी बताया कि वह दस्तावेजों वाली अटैची राजस्थान में डेरा प्रमुख के गांव गुरूसर मोड़िया से बरामद करवा सकती है। पंजाब व राजस्थान में हनीप्रीत ने अपने छिपने के ठिकानों की करवाई निशानदेही : हनीप्रीत ने जांच के दौरान पुलिस को अपने छिपने के सभी ठिकानों ढाणी कौर सिंह, व गांव जंगीराणा की निशानदेही भी करवाई और प्रगट व मेजर सिंह के घर से अपने सूद भी बरामद करवाए। चार्जशीट में यह भी बताया गया कि हनीप्रीत ने गुरूसर मोड़िया में गुरमेल सिंह के भतीजे बली सिंह के मकान से लॉक अटैची पेश करने पर चाबी न होने की वजह से लॉक तोड़कर अटैची खोलकर चेक करने पर दस्तावेज बरामद होने पर काली सूटकेस में डालकर पुलिस ने अपने कब्जे में ले लिया। 
2008 से डेरे में रहने लगी थी सुखदीप कौर, हनीप्रीत की थी सेवादार व ड्राईवर : हनीप्रीत के साथ गिरफ्तार की गई सुखदीप कौर ने तफतीश के दौरान बताया कि डेरे से नामदान लेने व साल 2008 से डेरा में कोठी बनाकर रहने और हनीप्रीत के साथ सेवादार व ड्राईवर बनकर रहने के कारण डेरा के जिम्मेदार लोगों को जानने लगी थी। उसने यह भी बताया कि 25 अगस्त को पिताजी(डेरा प्रमुख) के खिलाफ सीबीआई कोर्ट मे चल रहे केस में आने वाले फैसले की तारीख से कुछ दिन पहले 17 अगस्त को डेरा में दीदी हनीप्रीत द्वारा ली गई मीटिंग के बारे में बतलाने व सुखदीप द्वारा अपनी सहमति देते हुए इस योजना को अंजाम देने में हर प्रकार का अपना सहयोग करने के लिए भी बोला गया था। हनीप्रीत द्वारा महिलाओं व संगत को भड़काने और पुलिस से फरार लोगों को पनाह देने व दिलवाने की ड्यूटि उसकी (सुखदीप कौर) लगाई गई थी। पुलिस ने हनीप्रीत के साथ सुखदीप कौर को भी सह-आरोपी होने पर हनीप्रीत के साथ ही गिरफ्तार कर लिया था और गुरमीत सिंह और शरण जीत कौर को धारा 216 के अंतर्गत गिरफ्तार किया गया।  विपासना ने पुलिस के हवाले किया हनीप्रीत का पीले रूमाल में लिपटा मोबाईल : पुलिस ने डेरे की चेयरपर्सन विपासना चावला पुत्री सुरेश चावला वासी करनाल व ऑल हेडमेन ब्लाक शाह सतनाम नगर में थाना में आकर एक काले रंग का हैंडबैग पुलिस को सौंपा जिसमें हल्के पीले रंग के रूमाल में एप्पल का मोबाईल फोन जो हनीप्रीत का था और जो बिना सिम के पेश किया और जिसे पुलिस ने अपने कब्जे में ले लिया।