निकाय चुनाव में हार देख बौखलाये अकाली : जाखड़


चंडीगढ़, 14 दिसम्बर (वार्ता) : पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष एवं सांसद सुनील जाखड ने कहा है कि अकाली दल निकाय चुनावों में अपनी हार को देख बौखलाहट में अनाप-शनाप बयानबाजी पर उतर आये हैं। जाखड़ ने आज यहां कहा कि पहले विधानसभा चुनाव, गुरदासपुर लोकसभा उप-चुनाव और अब निकाय चुनाव में अपनी हार को देख अकाली परेशान हो गए हैं। लोगों ने अकाली गठबंधन के 10 साल के शासन में परेशानियों को झेला है तथा लोगों ने उन्हें हाल के चुनावों में हाशिए पर पहुंचा दिया तो अब कौन सा जादू उन्हें जिताएगा। लोग अभी उनकी करतूतों को भूले नहीं हैं। उन्होंने कहा कि केन्द्र की भाजपा सरकार ने पंजाब के साथ सौतेला व्यवहार कर अच्छा नहीं किया। वह सांसद होने के नाते संसद के शीतकालीन सत्र में सरकार के खिलाफ आवाज़ उठाएंगे। इसके अलावा पंजाब के सरहदी इलाकों विशेषकर गुरदासपुर के धारीवाल तथा बटाला के उद्योंगों का मुद्दा भी उनके एजेंडे में शामिल रहेगा। निकाय चुनाव के बारे में उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेन्द्र सिंह ने निकाय चुनाव में पार्टी की ओर से अपना दृष्टिपत्र मतदाताओं के समक्ष रख दिया है। इसी विजन डाक्यूमेंट के अनुसार पार्टी इन चुनावों में जीत दर्ज करेगी। भाजपा ने पिछले 10 सालों में अकाली दल के सामने घुटने टेक रखे और शहरी इलाकों का कोई विकास नहीं हुआ जो भी प्रोजैक्ट शुरू किए गए थे, वे पूरे नहीं हो सके। अब पंजाब सरकार शहरों के विकास की योजना बना रही है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि अकाली दल कांग्रेस सरकार पर मनमानी के आरोप लगा रहा है। श्री सुखबीर बादल प्रदेश के गृहमंत्री भी रहे हैं और अकालियों की तरह कौन मनमानी कर सकता है। वह यह भी जानते होंगे कि राजमार्ग जाम करने के लिये कौन-सा कानून लागू होता है। पंजाब में अब जंगल राज नहीं कानून का राज है और कानून का उल्लंघन करने वालों के साथ कानून ही निपटेगा। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री अमरेन्द्र सिंह ने पुलिस को राजनीति से अलग रखा है तथा पुलिस को पेशेवर ढंग से काम करने की आजादी है। इसीलिए कई मामले पुलिस ने हल कर दिखाए हैं। अब अकाली दल की राजनीति नहीं चलेगी। यदि श्री बादल राजनीति में बने रहना चाहते हैं तो अपनी सरकार के समय की गई धक्केशाही के लिये पंजाब की जनता से माफी मांगने के लिये आगे आएं।