सरकारी पोलीटैक्निक कालेजों में काम करते इंस्ट्रक्टरों के वेतन 6 माह से रुके


बटाला, 14 दिसम्बर (काहलों, वनीत गोयल): तकनीकी शिक्षा विभाग पंजाब के अन्तर्गत पंजाब भर के सरकारी पोलीटैक्निक कालेजों में काम करते वर्कशाप इंस्ट्रक्टरों सहित 65-70 कर्मचारी पिछले 6 महीने से वेतन न मिलने के कारण मायूस हैं। इस संबंधी गत दिवस पोलीटैक्निक वर्कशाप स्टाफ एसोसिएशन का एक प्रतिनिधिमंडल उप चेयरमैन जसवीर सिंह मांहपुर, राज्य प्रधान तेजप्रताप सिंह काहलों, सीनियर उप प्रधान कमल सिंह माज़री, महासचिव रीतविंदर सिंह बरनाला, मुख्य सलाहकार कुलदीप राय खूनी माजर और विभिन्न कालेजों से आए नुमाइंदों के साथ विभाग के मंत्री स. चरनजीत सिंह चन्नी सहित विभाग के उस समय के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री जी. वजरारिंगम, विभाग के डायरैक्टर प्रवीन कुमार थिंद को विभिन्न समय पर मिला, जिसमें विनती की कि पंजाब भर में गत 5-6 महीनों से प्रिंसीपलों ने 65-70 के करीब कर्मचारियों,  जिनमें अतिरिक्त संख्या वर्कशाप इंस्ट्रक्टरों की है, का वेतन रोक दिया है, इस पर उच्च अधिकारियों ने स्पष्ट तौर पर कहा कि वेतन रोकने संबंधी हमने किसी भी प्रिंसीपल को आदेश जारी नहीं किए, जबकि विभाग के मंत्री चन्नी और उच्च अधिकारी वेतन जारी करने के लिए तैयार की फाईल जल्दी ही निकाल कर भरोसा दे रहे हैं। वेतन न मिलने के कारण एसोसिएशन द्वारा विभाग के मंत्री और उच्च अधिकारियों को कई पत्र भी लिखे गए हैं। यहां वर्णनयोग्य है कि राज्य भर के पोलीटैक्निक कालेज में 200 से अधिक काडर में सिर्फ 70 के करीब वर्कशाप इंस्ट्रक्टर काम कर रहे हैं। पदों का वितरण विभागीय स्तर और कालेज स्तर पर किया गया है, जो नए पद भरने तक जारी रह सकता है। इसके अलावा विभाग में वर्कशाप इंस्ट्रैक्टरों के पदों का वितरण गल्त ढंग से होने के कारण विद्यार्थियों की पढ़ाई का नुक्सान हो रहा है। उन्होंने बताया कि सरकारी पोलीटैक्निक कालेज बटाला में काम करता सीनियर सहायक रछपाल सिंह, जो कैंसर की ना-मुराद बीमारी से पीड़ित है, अपने इलाज के लिए अपने वेतनों की मांग कर रहा है। यूनियन नेता ने कहा कि कुछ कालेजों के प्रिंसीपलों द्वारा रुके वेतन जारी कर दिए हैं, परन्तु बाकी कालेजों में वेतन नहीं दिए जा रहे, इस कारण भी कई तरह के सवाल उठते हैं। इस संबंधी एसोसिएशन के चेयरमैन स्वर्ण सिंह, उप-चेयरमैन जसवीर सिंह मांहपुर, प्रधान तेज़प्रताप सिंह काहलों, महासचिव रीतविंदर सिंह बरनाला, सीनियर उप प्रधान कमल सिंह माजरी, उप-प्रधान गुरजीत सिंह बठिंडा, मुख्य सलाहकार कुलदीप राय, प्रैस सचिव जसपाल सिंह अमृतसर आदि ने पंजाब सरकार से मांग की कि 5-6 महीनों से कर्मचारियों के बंद पड़े वेतन जारी करने की कृपालता की जाए, नहीं तो हमें संघर्ष का रास्ता अपनाना पड़ेगा।