कलवरी पनडुब्बी को मोदी ने नौसेना में किया शामिल


मुंबई, 14 दिसम्बर (भाषा) : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज स्कॉर्पीन श्रेणी की छह कलवरी पनडुब्बियों में से एक को भारतीय नौसेना में शामिल किया और इसे देश की रक्षा तैयारी में एक बड़ा कदम बताया। इस अवसर पर आयोजित समारोह में स्कॉर्पीन श्रेणी की प्रथम कलवरी पनडुब्बी के वरिष्ठ नौसैन्य कर्मी मौजूद थे। उनसे मिलने के बाद मोदी पनडुब्बी में चढ़े और उसकी पट्टिका का अनावरण किया। आज सुबह आयोजित इस समारोह में मोदी ने कहा कलवरी मेक इन इंडिया का एक शानदार उदाहरण है। कलवरी को नौसेना में शामिल करने के लिए आयोजित समारोह में नौसेना प्रमुख एडमिरल सुनील लांबा, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल और भारत में फ्रांस के राजदूत एलेग्जेंडर जिगलेर सहित अन्य गणमान्य अतिथि मौजूद थे। इस रणनीतिक संयुक्त परियोजना के लिए मोदी ने फ्रांस को धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि इस पनडुब्बी का जलावतरण 125 करोड़ भारतीयों के लिए गर्व का विषय है। उन्होंने कहा कि इस पनडुब्बी का जलावतरण करना मेरे लिए गर्व की बात है। नौसेना में कलवरी को शामिल करना रक्षा क्षेत्र में तैयारी का बड़ा कदम है। इस पनडुब्बी का नाम हिंद महासागर में गहरे पानी में पाई जाने वाली खतरनाक  टाइगर शार्क पर कलवरी रखा गया है। उन्होंने कहा कलवरी की ताकत टाइगर शार्क की तरह है और यह हमारी नौसेना की शक्ति बढ़ाएगी। प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत पड़ोसियों के लिए संकट के समय में प्रतिक्रिया देने में सबसे आगे रहता आया है, चाहे यह संकट श्रीलंका, मालदीव या बंगलादेश में बाढ़ का हो, पानी की कमी हो या चक्रवात हो। उन्होंने कहा कि नेपाल में भूकम्प के दौरान भारतीय नौसेना और वायुसेना ने बहुत बड़ी सहायता पहुंचाई। मोदी ने अपनी सरकार के मूल मंत्र सबका साथ सबका विकास का जिक्र किया। साथ ही उन्होंने आतंकवाद तथा नक्सली खतरे से सफलतापूर्वक मुकाबले के बारे में भी बताया। उन्होंने कहा इस साल अब तक कश्मीर में पुलिस और सुरक्षा बलों के हाथों करीब 200 आतंकवादी मारे जा चुके हैं। पथराव करने की घटनाओं में भी वहां कमी आई है। प्रधानमंत्री ने कहा नक्सली हिंसा में भी कमी आई है। इससे पता चलता है कि लोग विकास के रास्ते पर आ रहे हैं। रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि पनडुब्बी निर्माण एक आधुनिक एवं कौशलपूर्ण कार्य है और कुछ ही देशों के पास इसकी औद्योगिक क्षमता है।