पाक 50 करोड़ की लागत से करवायेगा कपूर खानदान की हवेली का नव-निर्माण


अमृतसर,13 जनवरी (सुरिन्द्र कोछड़) : बॉलीवुड फिल्म निर्माता और अभिनेता स्व. पृथ्वीराज कपूर पाकिस्तान के पेशावर शहर में मौजूद हवेली का प्रदेश खैब्बर पख्तूनख्वा सरकार द्वारा 50 करोड़ रुपए की लागत से नव-निर्माण करवाया जा रहा है। सुरक्षित विरासती स्मारक घोषित किए जाने के बावजूद देखभाल की कमी के चलते यह हवेली खंडहर में तबदील हो रही थी। पेशावर से आज इस बारे में जानकारी देते हुए चरणजीत सिंह और बाबा गुरपाल सिंह ने बताया कि कपूर खानदान उक्त 10 मंजिला जद्दी हवेली पेशावर के मोहल्ला डक्की मुनवर शाह के किस्सां ख्वानी बाज़ार में मौजूद हैं, जिसमें 40 के करीब बड़े कमरे और एक बड़ी रसोई बनी हुई है। यह हवेली 4625 स्क्वेयर फुट क्षेत्र में मौजूद है। उन्होंने बताया कि इस हवेली के बाहर मुख्य द्वार पर हवेली बनाने का वर्ष 1922 लिखा आज भी आसानी से पढ़ा जा सकता है। यह हवेली 4 साल में बनकर तैयार हुईर्। सन 1968 में वक्फ बोर्ड द्वारा इस हवेली की करवाई गई खुली बोली में जिस खरीदार ने यह हवेली खरीदी उसने जल्दी इसकी ऊपर की चार मंजिलें गिरा दी जबकि 3 मंज़िलें बाद में भूकम्प के झटके के कारण अपने आप गिर गईं। 2 वर्ष पहले इस आलीशान हवेली की जगह प्लाज़ा बनाए जाने संबंधी इसको गिराए जाने की कार्रवाई शुरू की गई थी, जिस पर पुरातत्व विभाग द्वारा कार्रवाई शुरू किए जाने तक हवेली की ऊपर की मंज़िल गिरा दी गई। वर्णनीय है कि उक्त हवेली में 14 दिसम्बर 1929 को अभिनेता राज कपूर का जन्म हुआ था। देश के बंटवारे के चलते कपूर खानदान को यह हवेली छोड़कर भारत आना पड़ा। यह भी बताया जा रहा है कि पेशावर के उपरोक्त किस्सा ख्वानी बाज़ार के ही मोहल्ला खुदादाद में साल 1998 में पाकिस्तान सरकार द्वारा निशान-ए-इम्तियाज अवार्ड से नमाज़े गए फिल्म अभिनेता दिलीप कुमार उर्फ यूसुफ खान के विरासती स्मारक बनाए गए । जद्दी घर का भी नवनिर्माण करवाया जा रहा है। स. चरणजीत सिंह के अनुसार प्रदेश के पुरातत्व और म्यूज़ियम विभाग के प्रवक्ता नवाजुद्दीन ने भरोसा दिया कि प्रदेश खैब्बर पख्तुनख्वा के नए लागू किए गए पुरातनता एक्ट के अनुसार उक्त भारतीय फिल्मी अभिनेताओं के विरासती स्मारक घोषित किए गए घरों का नव-निर्माण फरवरी महीने के पहले सप्ताह के शुरू करवाया जाएगा।