‘नानक नाम चढ़ती कला, तेरे भाणे सरबत दा भला’ थीम तहत मनाए जाएंगे : सिद्ध


चंडीगढ़, 14 फरवरी (अजायब सिंह औजला) : पंजाब सरकार द्वारा श्री गुरु नानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व बड़े स्तर पर मनाया जाएगा, जिसमें केन्द्रीय थीम ‘नानक नाम चढ़ती कला, तेरे भाणे सरबत दा भला’ होगा। यह फैसला आज यहां पंजाब भवन में सभ्याचारक मामलों व पर्यटन मंत्री स. नवजोत सिंह सिद्धू की अध्यक्षता में हुई उच्चस्तरीय बैठक में लिया गया। इस बैठक में डेरा बाबा नानक से विधायक सुखजिन्द्र सिंह रंधावा, मुख्य सचिव कर्ण अवतार सिंह, सभ्याचारक मामलों व पर्यटन विभाग के सचिव विकास प्रताप, डायरैक्टर शिव दुलार सिंह ढिल्लों, पंजाब कला परिषद् के चेयरमैन डा. सुरजीत पातर, पंजाबी यूनिवर्सिटी पटियाला के उप कुलपति डा. बी.एस. घुम्मण, गुरु नानक देव यूनिवर्सिटी अमृतसर के उप-कुलपति जसपाल सिंह संधू, कंवलजीत सिंह व पंजाब यूनिवर्सिटी चंडीगढ़ से प्रशांत गौतम भी उपस्थित थे। बैठक उपरांत स. सिद्ध  ने कहा कि हाल ही में मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेन्द्र सिंह के नेतृत्व में हुई बैठक में फैसला किया गया था कि अगले वर्ष 2019 में आ रहे श्री गुरु नानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व को प्रदेश सरकार बड़े स्तर पर मनाएगी, जिसकी तैयारियों का खाका निर्धारित करने के लिए उनके विभाग को ज़िम्मेदारी सौंपी है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री के दिशा-निर्देशों तहत बुलाई आज की बैठक में सबसे बड़ा फैसला यह लिया गया था पूरा वर्ष चलने वाले प्रकाश पर्व समारोहों का केन्द्रीय थीम ‘नानक नाम चढ़ती कला, तेरे भाणे सरबत दा भला’ होगा। उन्हाेंने कहा कि वर्ष भर चलने वाले समारोह इस केन्द्रीय थीम के पास घूमेंगे। उन्होंने कहा कि गुरु साहिब ने चढ़ती कला में रहने व सारी दुनिया का भला मांगने का संदेश दिया है व प्रदेश सरकार द्वारा समारोहों द्वारा गुरु साहिब की शिक्षाओं को दुनिया के कोने-कोने तक पहुंचाया जाएगा। स. सिद्ध  ने बताया कि आज की बैठक में विभिन्न कमेटियों का गठन करने का फैसला किया गया। यह कमेटियों का मुख्य उद्देश्य काली वेईं की सफाई व स्वच्छ सुल्तानपुर लोधी मुहिम चलाना, श्री गुरु नानक देव जी बारे विभिन्न यूनिवर्सिटी-कालेजों में सैमीनार, साहत्यिक मुकाबले, गुरबाणी उच्चारण व शब्द गायन मुकाबले, पेंटिंग व फोटो प्रदर्शनियां करवानी, पंजाब की यूनिवर्सिटयों व पंजाब से बाहर किसी दो जगह गुरु नानक देव जी चेयर स्थापित करना, 550वें प्रकाश पर्व को समर्पित प्रदेश में शानदार मिसाली यादगार स्थापित करना है जोकि इन्सानीयत को समर्पित होगी। उन्हाेंने कहा कि विश्व कवि सम्मेलन भी करवाया जाएगा व विश्व पवित्र संगीत मेला भी करवाया जाएगा। उन्हाेंने कहा कि यहां के सभ्याचारों को भी समारोहों का भाग बनाया जाएगा, जहां-जहां गुरु साहिब ने चरण डाले।स. सिद्ध ने कहा कि साधनों को जुटाने के लिए कमेटी बनाई जाएगी, जिसमें कार्पोरेट घरानों को भी शामिल किया जाएगा। उन्होंने कहा कि शताब्दी समारोहों में शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी, संत समाज, धार्मिक शख्सियतों, संस्थाओं व सभी पार्टियों के प्रतिनिधियों को शामिल किया जाएगा व विभिन्न कमेटियों में सभी पार्टियों के संसद सदस्य व विधायक भी शामिल किये जाएंगे। इन समारोहों से पंजाब से बाहर देश व विदेशों की संगत को जोड़ने के लिए ‘इंटरनैशनल आऊटरीच कमेटी’ बनाई जाएगी। उन्होंने कहा कि हमारा उद्देश्य गुरु नानक देव जी की शिक्षाओें को दूर-दूर तक पहुंचाना है। स. सिद्ध ने कहा कि पंजाब सरकार द्वारा देश के प्रधानमंत्री के पास केन्द्रीय स्तर पर कमेटी बनाने की मांग की जाएगी। इसके अलावा केन्द्रीय परिवहन मंत्रालय को पत्र लिख कर देश में गुरु साहिब की चरण छू जगहों को गुरु नानक मार्ग द्वारा जोड़ने की मांग की जाएगी। उन्हाेंने कहा कि पंजाब से बाहर गुरु साहिब से संबंधित जगहों पर भी कोई न कोई समारोह करवाने के लिए संबंधित प्रदेशों की सरकारों को लिखा जाएगा। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री द्वारा पहले ही बैठक करके फैसला किया गया है कि सुल्तानपुर लोधी में मुख्य समारोह होगा।