पंजाब भाजपा द्वारा राज्यपाल को मांग-पत्र


चंडीगढ़, 19 अप्रैल (विक्रमजीत सिंह मान) : पंजाब भाजपा अध्यक्ष श्वेत मलिक की अध्यक्षता में आज एक प्रतिनिधिमंडल द्वारा पंजाब के राज्यपाल वी.पी. सिंह बदनौर से मुलाकात कर मांग-पत्र दिया गया। इस मौके पर उन्होंने राज्यपाल को अपील की कि वह पंजाब सरकार को 13 अप्रैल शाम तक लेकर अब तक पंजाब खासकर फगवाड़ा में हुई हिंसक घटनाओं की जांच के लिए एस.आई.टी. (विशेष जांच टीम) बनाने के आदेश दें। इसके अतिरिक्त भाजपा के प्रतिनिधिमंडल ने राज्यपाल को अपील की कि सरकार को तुरन्त आदेश जारी करते सर्व पार्टी बैठक बुलाने को कहने, जिसमें समाज में आए परिवर्तन को ठीक करने के लिए, समाज को एकजुट रखने के लिए, अमन शांति तथा आपसी प्यार कायम करने के लिए सारी पार्टियों द्वारा संयुक्त रणनीति बनाई जा सके। राज्यपाल को मांग-पत्र देने के बाद भाजपा अध्यक्ष ने मीडिया से बातचीत करते कहा कि पंजाब के कुछ हिस्सों में हुई हिंसक घटनाएं आम नहीं थीं, अपितु राजनीतिक हितों की पूर्ति के लिए समाज को बांटने की एक बहुत बड़ी साज़िश थी। मलिक ने कहा कि पंजाब पुलिस ने हिंसा करने वालों पर कार्रवाई की है, परन्तु जिन लोगों ने अपने राजनीतिक स्वार्थों की पूर्ति के लिए साज़िश रचकर दो वर्गों में दरारें डालकर हिंसा करवाई उनके चेहरे बेनकाब होने चाहिए कि हिंसा के पीछे असल आरोपी कौन है। इस मौके उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने हमेशा जात-पात की राजनीति की है जबकि मोदी सरकार ने दलितों सहित अन्य वर्ग के हित का ध्यान रखा है। राज्यपाल को मिलने वाले प्रतिनिधिमंडल में पूर्व भाजपा अध्यक्ष प्रो. रजिन्द्र भंडारी, अश्विनी शर्मा, प्रदेश महामंत्री संगठन दिनेश कुमार, प्रदेश महामंत्री केवल कुमार, जीवन गुप्ता, विनीत जोशी तथा सुभाष शर्मा शामिल थे।