केन्द्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री की बड़ी घोषणा दिल की बीमारी के ‘स्टेंट’ मिलेंगे मुफ्त


चंडीगढ़, 17 मई (पठानिया) : केन्द्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे ने आज यहां कहा कि दिल की बीमारियों के इलाज में इस्तेमाल होने वाले स्टंट को गरीबी रेखा (बीपीएल) के नीचे जीवन यापन करने वाले सभी लोगों को मुफ्त में मुहैया कराया जाएगा। उन्होंने यह भी कहा कि स्टेंट की कीमतें अब पहले की तुलना में काफी कम हो गई हैं। चौबे ने यहां एक संवाददाता सम्मेलन में सवालों के जवाब देते हुए कहा, कि हमने केवल दो सप्ताह पहले ही निर्णय लिया है कि बीपीएल श्रेणी के लोगों के लिए दिल की बीमारियों के लिए स्टेंट जैसी सुविधएं मुफ्त में मुहैया कराई जाएगीं।एक अन्य मुद्दे पर, चौबे को पंजाब के स्वास्थ्य मंत्री ब्रह्म मोहिन्द्रा के बारे में पूछा गया था कि सोमवार को आयुषम भारत के लिए समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर करने से इस आधार पर इन्कार कर दिया गया था कि पंजाब सरकार पहले से ही इसी तरह की योजनाएं चला रही है। चार राज्यों और संघ शासित प्रदेश चंडीगढ़ ने हाल ही में आयुषमान भारत-प्रधान मंत्री राष्ट्रीय स्वास्थ्य सुरक्षा मिशन के कार्यान्वयन के लिए शिमला में एक कार्यक्त्रम दौरान केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के साथ समझौता ज्ञापन किया था।केंद्रीय मंत्री ने बताया कि केंद्र ने हाल ही में 2025 तक टीबी की बीमारी को खत्म करने के लिए टीबी मुक्त भारत अभियान शुरू किया है।यह पूछे जाने पर कि कुछ डॉक्टरों द्वारा निर्धारित महंगी दवाओं की जांच के लिए केंद्र क्या कदम उठा रहा है, पर उन्होंने जवाब दिया कि अब हम जेनेरिक दवाओं की ओर बढ़ रहे हैं। हमने प्रधान मंत्री भारतीय जन औषधी योजना के तहत 3,217 केंद्र खोले हैं। विभिन्न सरकारी संस्थानों में डॉक्टरों की कमी पर पूछे गए सवालों के जवाब में उन्होंने कहा कि इस समस्या की जांच के लिए सरकार उचित कदम उठा रही है। एक अन्य सवाल के के जवाब में उन्होंने कहा कि कैंसर के इलाज के लिए क्षेत्रीय कैंसर संस्थान खोले जा रहे हैं।चौबे ने कहा कि सरकार आयुषम भारत कार्यक्रम के हिस्से के रूप में 1.5 लाख स्वास्थ्य और कल्याण केंद्रों के माध्यम से स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली को घरों के करीब लाने के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि 1.5 लाख केंद्र हैं जिन्हें हमें कल्याण केंद्रों में बदलना है, जिसके लिए 1,200 करोड़ रुपये की राशि निर्धारित की गई है।