मार्ग का नाम श्री गुरु नानक देव जी के नाम पर रखना सरकार का सराहनीय निर्णय : लौंगोवाल


बठिंडा/तलवंडी साबो, 19 मई (डॉ. पवन शर्मा): सिक्खों के पहले गुरू श्री गुरु नानक देव जी के आगामी वर्ष मनाए जा रहे 550 वर्षीय प्रकाश पर्व समारोह के मद्देनजर पंजाब की कैप्टन अमरेंद्र सिंह के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार ने श्री गुरु साहिब जी की चरणस्पर्श प्राप्त मार्गों के नाम गुरु साहिब के नाम पर रखने की शिरोमणी गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के प्रधान भाई गोबिन्द सिंह लौंगोवाल ने जहां सराहना की है। वहीं उन्होंने प्रकाश पर्व समारोहों के लिए सरकार की तरफ  से बनाई तीन सदस्यीय समिति पर सवाल उठाते हुए कहा है कि कमेटी में सिर्फ  साफ छवि वाले नेता ही शामिल किये जाएं। तख्त श्री दमदमा साहिब के गुरुद्वारा जंडसर साहिब में शिरोमणी कमेटी की तरफ  से करवाए गुरबानी पाठ ज्ञान समारोह की सम्पन्नता के अवसर परपहुंचे शिरोमणी कमेटी प्रधान भाई गोबिन्द सिंह लौंगोवाल ने पत्रकार-वार्ता के दौरान कहा कि श्री गुरु नानक देव जी के 550 वें प्रकाश पर्व पर समूची संगतों को पार्टीबाजी व धड़ेबाजी से ऊपर उठ कर एकजुट होकर मनाना चाहिए और कांग्रेस सरकार की तरफ  से भी इस समारोह के अंतर्गत उन सड़क मार्गों के नाम श्री गुरु नानक देव जी के नाम पर रखना एक अति प्रशंसनीय प्रयास है। इस अवसर पर प्रधान ने सरकार की तरफ  से प्रकाश पूर्व समाराहों से संबन्धित बनाई तीन सदस्यीय कमेटी पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने कमेटी में नवजोत सिंह सिद्धू को शामिल करने बारे पूछे गए सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि जो व्यक्ति गुरु नानक देव जी के सिद्धांत को ही नहीं मानता हो और उसके घर हवन यज्ञ होते हों उसको गुरु नानक देव जी के गुरु पर्व समाराहों से सम्बन्धित कमेटी में शामिल करना सही नहीं लगता। उन्होंने मुख्य मंत्री से आग्रह किया कि गुरु पर्व समारोहों सम्बन्धित बनाई कमेटी में साफ  छवि नेता लिए जाएं।  माननीय पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट की तरफ से रोक लगाने के फै सले सम्बन्धित सवाल पर प्रधान ने कहा कि वह अदालती फैसलों के सम्मान के प्रति वचनबद्ध हैं। परंतु उपरोक्त फै सले की अभी तक उनको कोई कापी नहीं मिली और कापी मिलने उपरांत ही वह अग्रिम कार्रवाई के संबंध में  कुछ कह सकेंगे।  इस मौके उनके साथ तख्त श्री दमदमा साहिब के जत्थेदार सिंह साहिब ज्ञानी हरप्रीत सिंह, धर्म प्रचार सचिव बलविन्द्र सिंह जौड़ासिंघा, सब-ऑफिस दमदमा साहिब के सचिव भाई केवल सिंह भूरा कोहना, बाबा गुरमीत सिंह त्रिलोकेवाला और जत्थेदार गुरतेज सिंह ढड्डे दोनों अंतरिम मैंबर, भाई अमरीक सिंह कोटश्मीर, भाई करण सिंह मैनेजर तख्त साहिब आदि हाजिर थे।