घड़ियों के बारे में दिलचस्प जानकारी


* पहली पॉकिट घड़ी का आविष्कार टयूडर (इग्लैंड) में 16वीं शताब्दी में बनी। यह घड़ी बड़ी थी, इसलिए इस घड़ी को चैन या धागे की डोरी को गर्दन में घुमाकर जेब में रखते थे। 
* बरक्यूट घड़ी रूस के जार की पसंदीदा घड़ी थी। यह घड़ी वाटरलू की लड़ाई में नपोलियन ने पहन रखी थी।
* 1795 में बरक्यूट कम्पनी ने टरबीलन का आविष्कार किया। आज की डेट में इस कम्पनी ने टाईम पीस अर्थात् मेज़ घड़ी के बनाने हेतु सहायक हुई इस घड़ी में ग्रेवीटेशन के कारण टाईम के अन्तर को ठीक किया। आज भी टरबीलन घड़ी अच्छी घड़ियों में शुमार है।
* पहली रीस्टवॉच का आविष्कार पेटक फिलिप ने पहली वर्ल्ड वार (1914-1918) तक यह घड़ी महिलाओं की कलाइयों पर शोभामान रही तब तक पुरुष जेब घड़ी इस्तेमाल करते थे।
* पहली कलाई घड़ी का अविष्कार करटीयर ने किया जो पेशे से ज्वैलरी का व्यवसाय करता था। उसने यह घड़ी अपने ब्राजीलियन दोस्त पायलट अलबर्टो सनटास डूमट को गिफ्ट करने के लिए।
* बड़े पैमाने पर कलाई घड़ी का उत्पादन ‘गिराड परगस’ द्वारा किया गया। इसी ने टेबल घड़ी का उत्पादन सेना के लिए किया।
*  टेग हीडर कैरेश क्रोनोग्राफ घड़ी को प्रसिद्ध कैरीरा पनामेरीकाना गाड़ियों की दौड़ के लिए अर्थात् उस रेस की याद में जो 1950 में हुई।
* 1953 में जब एडमंड हैलरी ने मयूर ऐवरेस्ट को फतह किया तो उसकी कलाई पर रोल्कस ओस्टर बंधी थी।
* रूसी और अम्रेकन ऐस्ट्रोनाटस ने जब अपोलो-सयूज का 1975 में मिलन हुआ तो दोनों ने ओमेगा स्पीडमास्टर घड़िया अपनी कलाई पर बांधी हुई थी।
* दुनिया की पहली एन्टी मेगनैटिक जिसका नाम टीसट था जो स्विस कम्पनी द्वारा निर्मित की गई।

-राम प्रकाश शर्मा
मो. 90419-19382