नाबार्ड पंजाब को 100 अरब की देगा वित्तीय सहायता


चंडीगढ़, 5 जुलाई (आर.एस.लिबरेट) : नाबार्ड वर्ष 2018-19 दौरान पंजाब को 100 अरब की वित्तीय सहायता देगा यह घोषणा आज जे.पी.एस. बिन्द्रा प्रमुख प्रबन्धक नाबार्ड कृषि कार्यालय पंजाब ने पत्रकार बैठक के दौरान कहा कि पिछले वित्तीय वर्ष 2017-18 के दौरान नाबार्ड द्वारा पंजाब राज्य में कृषि और ग्रामीण विकास के लिए 8000 करोड़ की वित्तीय सहायता दी गई थी। राज्य कृषि बोर्ड द्वारा सैक्टर 39 (पश्चमी) चंडीगढ़ की दूसरी अनाज, फल और सब्ज़ी मंडी को प्रमोट करने की योजना सम्बन्धी डी.पी.आर. तैयार करने के लिए सहायक कम्पनी की सेवाएं ली जा रही हैं। पानी ही जीवन है नारे को आगे बढ़ाने के लिए नाबार्ड द्वारा पानी प्रबन्धन योजना तैयार की गई है जिसको फिरोज़पुर से मोगा सहित दो ज़िलों में लागू किया जाएगा जबकि गत वर्ष नाबार्ड ने राज्य के 5000 गांवों में पानी अभियान 2017 चलाया था। एक सवाल के उत्तर में श्री बिन्द्रा ने बताया कि वर्तमान वर्ष के दौरान, राज्य में 71 सड़कों के निर्माण के लिए 213.09 करोड़ की सहायता की मन्ज़ूर की गई है। भण्डारण समर्था की वृद्धि के लिए वेयरहाऊस इंफ्रास्ट्रक्चर फण्ड के तहत 206.06 करोड़ और जालन्धर, लुधियाना, पटियाला और रोपड़ में चार दूध उत्पादक यूनियनों को 254.5 करोड़ का कर्ज़ा मंजूर किया गया है। नाबार्ड ने वर्ष 2017-18 दौरान बैंकों को 2249.67 करोड़ दिया गया था जो वर्ष 2018-19 के दौरान बढ़ा कर 2900 करोड़ किया जाएगा। नाबार्ड ने किसानों को रियायती ब्याज दर पर फसली कर्ज़ मुहैय्या करवाने के लिए बैंकों को 5258.26 करोड़ देगा। इस वर्ष नाबार्ड ने बैंकों को गत वर्ष की तुलना में ज्यादा वित्तीय सहायता देने का उद्देश्य रखा है। फसलों की भिन्नता को प्रोत्साहित करने के लिए, डेयरी, सब्जियां, मशरूम की खेति के लिए 2018-19 के लिए 1918 करोड़ क्षेत्र विकास योजना तैयार की है।