टाटा संज़ के चेयरमैन पद से हटाए जाने के खिलाफ मिस्त्री की याचिका खारिज़


मुंबई, 9 जुलाई (भाषा) : राष्ट्रीय कम्पनी विधि न्यायाधिकरण (एनसीएलटी) ने टाटा संस के चेयरमैन पद से हटाए जाने के खिलाफ दाखिल साइरस मिस्त्री की याचिका को आज खारिज कर दिया। उल्लेखनीय है कि मिस्त्री ने खुद को टाटा संस के चेयरमैन पद से हटाने के फैसले को एनसीएलटी में चुनौती देते हुए याचिका दाखिल की थी। बीएसवी प्रकाश कुमार और वी. नालासेनापति की अध्यक्षता वाली एनसीएलटी की मुंबई पीठ ने कहा मिस्त्री को इसलिये हटाया गया, क्योंकि टाटा संस के निदेशक मंडल और उसके अधिकतर सदस्यों का विश्वास उन पर (मिस्त्री) से उठ गया था। न्यायाधिकरण ने कहा कि उसने मिस्त्री की उन दलीलों को स्वीकार नहीं किया, जिसमें कहा गया था कि उनका निष्कासन निदेशक मंडल द्वारा गड़बड़ी करके किया गया है और यह अल्पांश शेयरधारकों का उत्पीड़न है। पीठ ने कहा कि कम्पनी से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण जानकारियां आयकर विभाग को देने, मीडिया में जानकारियां लीक करने और कम्पनी के शेयरधारकों और उसके निदेशक मंडल के खिलाफ सार्वजनिक तौर पर खुलकर सामने आने के बाद मिस्त्री को हटाया गया था, क्योंकि निदेशक मंडल और इसके सदस्यों का उन पर से विश्वास खत्म हो गया था। अक्तूबर 2016 में मिस्त्री को टाटा संस के चेयरमैन पद से हटाया गया था। इसके 2 महीने के बाद उनकी कम्पनी साइरस इन्वेस्टमेंट ने एन.सी.एल.टी. का रुख किया था। याचिका के मुताबिक, 5 महीने बाद उन्हें एन.सी.एल.टी. के पास आने के लिए टाटा संस के निदेशक मंडल में निदेशक पद से हटा दिया गया। एनसीएलटी के इस आदेश के खिलाफ मिस्त्री राष्ट्रीय कम्पनी विधि अपीलीय न्यायाधिकरण (एन.सी.एल.टी.) के समक्ष अपील कर सकते हैं।