नशे की सप्लाई की कमर तोड़ी जा चुकी : कैप्टन


होशियारपुर, 9 जुलाई (नरेन्द्र मोहन शर्मा): पूर्व एस.एस.पी. राजजीत सिंह के मामले में लुक आऊट नोटिस जारी होने उपरांत वो देश से बाहर नहीं जा सकेगा तथा उसने अपना पासपोर्ट भी पुलिस हैडक्वार्टर में जमां करवा दिया है। यह जानकारी मुख्यमंत्री पंजाब कै. अमरेन्द्र सिंह ने आज जहां पी.आर.टी.सी. जहानखेलां में पत्रकारों के साथ बातचीत करते दी। उन्होंने कहा कि राजजीत सिंह के केस की पंजाब व हरियाणा हाईकोर्ट में सुनवाई के लिए 25 जुलाई तय की हुई है। जिस कारण वो इस मामले में अभी कुछ भी नहीं कह सकते। डोप टैस्ट संबंधी पूछे गए एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि डोप टैस्ट सिर्फ पंजाब पुलिस तथा अन्य सरकारी अधिकारियों/कर्मचारियों का ही होगा। उन्होंने स्पष्ट किया कि उनके द्वारा प्रदेश में सभी का डोप टैस्ट किए जाने की बात कभी भी नहीं कही गई। प्रदेश में नशे कारण बढ़ रही मौतों संबंधी टिप्पणी करते उन्होंने कहा कि प्रदेश में नशे की सप्लाई की कमर तोड़ी जा चुकी है जिस कारण नशे के  मूल्य आसमान छू रहे है तथा नशा नशेड़ियों की पहुंच से बाहर हो चुका है जिस लिए वो नशे की पूर्ति के लिए और कोई कैमीकल प्रयोग कर रहे होंगे जिस कारण मौतों की संख्या बढ़ी है। उन्होंने कहा कि पंजाब में नशा करने वाले नौजवान अब मौत के डर से नशा छुड़ाओं केंद्र में भर्ती हो रहे है। केंद्र सरकार द्वारा फसलों के समर्थन मूल्य में किए बढ़ावे संबंधी पूछे गए सवाल के जवाब में कै. अमरेन्द्र सिंह ने कहा कि केंद्र द्वारा स्वामीनाथन रिपोर्ट को लागू किए जाने के बिना किसानों की समस्याओं का हल होना आसान नहीं है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा किसानों की समस्याओं की तरफ ध्यान देने की बजाए फसलों के मूल्य में मामूली बढ़ावा किया है। इस मौके उन्होंने पंजाब सरकार द्वारा पंजाब पुलिस के कर्मचारियों की उन्नतियों संबंधी नई नीति का ऐलान किया जिसमें अब कोई भी कर्मचारी कम से कम ए.एस.आई रैंक प्राप्त करके ही सेवानिवृत होगा। नई नीति अनुसार 16 वर्ष की सेवा के बाद हैड कांस्टेबल, 24 वर्ष की सेवा के बाद ए.एस.आई. तथा 30 वर्ष की सेवा के बाद एस.आई. का रैंक प्राप्त करेगा। इस मौके मुख्यमंत्री ने 14 कर्मचारियों को पदउन्नत होने पर स्टार भी लगाए। इस मौके उनके साथ कैबिनेट मंत्री सुंदर शाम अरोड़ा, कैबिनेट मंत्री राणा गुरमीत सिंह सोढी, विधायक डा. राज कुमार, विधायक पवन कुमार आदीया, विधायक अरुण कुमार, मिक्की डोगरा, विधायक रजनीश बब्बी, पूर्व केंद्रीय राज मंत्री संतोष चौधरी, डा. कुलदीप नंदा आदि उपस्थित थे।