नशा पीड़ित गरीब लोगों का निशुल्क उपचार करवाया जाएगा : अमरेन्द्र



चंडीगढ़, 10 जुलाई (वार्ता) : पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा है कि नशे के आदी गरीब लोगों का इलाज सरकारी नशा मुक्ति केन्द्रों में निशुल्क कराया जायेगा। उन्होंने पुलिस को आदेश दिए हैं कि नशे के शिकंजे में फंसे लोगों या उनके परिवारों को तंग न किया जाये। कैप्टन सिंह ने आज यहां सिविल सर्जनों, मेडीकल अधीक्षकों और सरकारी मैडीकल कालेजों के प्रिंसीपलों के साथ एक उच्च स्तरीय बैठक की अध्यक्षता की । 
मुख्यमंत्री ने नशा छुड़ाने के मुफ़्त इलाज के लिए ज़रूरी फंड यकीनी बनाने के लिए अपने मुख्य प्रमुख सचिव को निर्देश जारी किये हैं । उन्होंने कहा कि यह फंड तुरंत संबंधित उपायुक्तों को जारी किये जायें ।   उन्होंने कहा कि यदि इसके लिये फंडों की और ज़रूरत हुई तो वह मुख्यमंत्री राहत फंड में से भी मंजूरी देंगे लेकिन नशे से पीड़ति लोगों के इलाज में कोई कमी नहीं रहने देंगे ।  उन्होंने राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्वास्थ्य संस्थाओं से वित्तीय सहायता प्राप्त करने की संभावनाओं का पता लाने के लिए भी स्वास्थ्य विभाग को निर्देश दिए हैं ।  
       नशा तस्करी को एक अंतरराष्ट्रीय समस्या मानते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि वह यह मुद्दा निजी तौर पर प्रधानमंत्री से उठाएंगे और राजस्थान, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और जम्मू -कश्मीर के साथ लगते राज्यों से पंजाब में नशे और नशीली दवाओं को रोकने के लिए ठोस कदम उठाने के लिए केंद्र की तरफ से कोशिशों को तेज किये जाने की अपील करेंगे क्योंकि नशा तस्करी से पंजाब सबसे अधिक प्रभावित हुआ है। आई.जी. (एस.टी.एफ.) ने बैठक में बताया कि एन.डी.पी.एस. एक्ट के तहत यह व्यवस्था है कि नशे के विरुद्ध लड़ाई के लिए केंद्र से फंड माँगे जा सकते हैं । मुख्यमंत्री ने कहा कि कुछ विदेशी छात्र खासकर अफ्रीकी मूल के छात्रों की गतिविधियों  पर पैनी नजर रखने की ज़रूरत पर बल दिया । अफ्रीकी छात्रों के नशा तस्करी में संलिप्त होने की रिपोर्ट हैं। उन्होंने शिक्षण संस्थाओं के प्रबंधकों से ऐसे छात्रों के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई करने को कहा है। कैप्टन सिंह ने कैंसर के मरीजों की तर्ज पर नशा मुक्ति केन्द्रों में जाने वाले गरीब लोगों और उनकी देखभाल करने वाले एक व्यक्ति के लिए सरकारी बस में मुफ़्त यात्रा करने की सुविधा मुहैया कराने के लिए स्वास्थ्य विभाग तथा ट्रांसपोर्ट विभाग को रूपरेखा तैयार करने को कहा है।