पांच लाख का इनाम दिया जाएगा : शिक्षा मंत्री


एस.ए.एस. नगर, 11 जुलाई (तरविंद्र सिंह बैनीपाल): अध्यापकों के तबादलों के रिश्वतखोरी को बिलकुल भी बर्दाश्त नहीं किया जाएगा और जो भी व्यक्ति अध्यापकों की तबादलों के दौरान या शिक्षा विभाग तथा शिक्षा बोर्ड के अन्य कार्यों में रिश्वत लेने या देने सबंधी पक्के सबूतों सहित जानकारी उपलब्ध कराएगा, उसको 5 लाख रुपए का इनाम दिया जाएगा। उक्त विचार शिक्षा मंत्री पंजाब ओम प्रकाश सोनी ने शिक्षा बोर्ड स्थित अपने नए कार्यालय में पहली बार बुलाई प्रैस कान्फ्रेंस को संबोधित करते हुए व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि तबादलों का कार्य बिलकुल पारदर्शी ढंग के साथ सिरे चढ़ाया जा रहा है और इसमें किसी भी तरह का सियासी दबाव या पैसे का दख्ल नहीं होने दिया जा रहा। अध्यापकों के तबादलों की सूचियां 1-2 दिनों में जारी कर दी जाएंगी। इससे पहले शिक्षा विभाग और शिक्षा बोर्ड के अधिकारियों की बुलाई उच्च स्तरीय बैठक की अध्यक्षता करते हुए शिक्षा मंत्री ने कहा कि बोर्ड में प्रत्येक वर्ष बड़ी संख्या किताबें वितरण से रह जाती हैं, जिनको बाद में रद्दी घोषित करना पड़ता है। उन्होंने कहा कि किताबों की छपाई व वितरण शैक्षिक सैशन शुरू होने से पहले करना यकीनी बनाया जाए। उन्होंने गाईडों के बढ़ते रुझान को काबू करने के लिए सभी किताब माहिरों की सलाह के साथ बोर्ड द्वारा ही छपवाने के लिए कहा। उन्होंने कहा कि किताबों की गुणवत्ता को बरकरार रखा जाए और इस लिए कागज़ भी बढ़िया क्वालिटी का इस्तेमाल किया जाए। पुस्तकों के वितरण के लिए स्कूल प्रिंसीपलों की ज़िम्मेवारी तय की जाए। पुस्तकों के लिए माहिरों की सलाह भी ली जाए ताकि जानकारी बिलकुल सही होने को यकीनी बनाया जा सके। उन्होंने घरों में खुले स्कूलों को स्थानीय सरकारें विभाग की सहायता के साथ बन्द करवाने के आदेश भी दिए। बैठक में सचिव स्कूल शिक्षा कृष्ण कुमार, डीजीएसई पंजाब प्रशांत कुमार गोयल, शिक्षा बोर्ड के चेयरमैन मनोहर कांत कलोहिया, डीपीआई (स. शि) परमजीत सिंह, डीपीआई (ए. शि) इंद्रजीत सिंह के अलावा शिक्षा बोर्ड और शिक्षा विभाग के उच्चाधिकारी भी उपस्थित थे।