शिक्षा के क्षेत्र में खर्च की जा रही एक हज़ार करोड़ की राशि 


अमृतसर,  5 नवम्बर (राजेश कुमार) :  शिक्षा और वातावरण मंत्री पंजाब ने राज्य के बच्चों को प्रदूषण रहने दीवाली मनाने का निमंत्रण देते हुए कहा कि यदि हम वातावरण को पटाखों/आतिशबाजी के धुएं व और बेतहाशा शोर से निजात दिलाने का प्रयास करेंगे तो ही हम कुदरत की कायनात के कद्रदान बन सकेंगे।  आज बच्चों को प्रदूषण मुक्त ग्रीन दीवाली मनाने के लिए मानसिक तौर पर तैयार करने के लिए शिक्षा विभाग और अमृतसर विकास मंच के सहयोग से सरकारी सारागढ़ी यादगारी सकैंडरी स्कूल, टाऊन हाल (माल मंडी) में करवाए विशेष समारोह, जिसमें उन्होंने 5000 के करीब बच्चों को पटाखे न चलाने की शपथ दिलाई। इस दौरान संबोधित करते श्री सोनी ने दीवाली के त्यौहार के मद्देनज़र सभी बच्चों को शुभ कामनाएँ देते हुए कहा कि दीवाली वास्तव में रोशनियों का त्यौहार है और यह हमें खुशहाली, शान्ति और सदभावना की प्रेरणा देता है और अपने मन में से चिंताओं के अंधकार को दूर करके ज्ञान के दीप जलाने का निमंत्रण देता है।इस अवसर पर शिक्षामंत्री ने बताया कि पंजाब सरकार की तरफ से स्वास्थ्य व शिक्षा के क्षेत्र में एक हज़ार करोड़ रुपए खर्च किए जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि विभाग की तरफ से 25 करोड़ रुपए का स्कूल फर्नीचर की खरीद की जा रहा है ताकि कोई भी स्कूल फर्नीचर के बिना नहीं रहेगा। उन्होंने इस अवसर पर सारागढ़़ी स्कूल को 10 लाख रुपए देने की घोषणा भी की। शिक्षामंत्री ने इस अवसर पर स्कूल में पौधारोपण किया बच्चों को भी पौधारोपण करने के लिए जागरूक किया। इस अवसर पर एस.डी.एम. श्री राजेश शर्मा, प्रदूषण विभाग के चीफ़ इंजीनियर जी.एस. मजीठिया, जिला शिक्षा अधिकारी सैकंडरी सलविन्दर सिंह समरा, श्री कुलवंत राय शर्मा जनरल सचिव रासा, अमृतसर विकास मंच से स. चरनजीत सिंह गुंमटाला, पिं्रसीपल बलविन्दर सिंह, व अन्य उपस्थित थे।