550वें प्रकाशोत्सव को समर्पित शिरोमणि कमेटी पुरातन पुस्तकों को पुन: प्रकाशित करेगी : भाई लौंगोवाल


अमृतसर, 8 दिसम्बर (राजेश कुमार) : शिरोमणि कमेटी ने श्री गुरु नानक देव जी के 550वें प्रकाशोत्व को समर्पित पुरातन पुस्तकों को दोबारा प्रकाशित करने का फैसला किया है। प्रधान गोबिंद सिंह लौंगोवाल के नेतृत्व में हुई सिख इतिहास रिसर्च बोर्ड की एकत्रता की बैठक में लिये उक्त फैसले संबंधी जानकारी देते हुए लौंगोवाल ने बताया कि कमेटी ने प्रो. प्रीतम सिंह की पुस्तक गुरू नानक विचारधारा और यादगारी सिख डायरी प्रकाशित करने का फैसला किया है।  इसके अलावा इस इतिहासिक मौके पर नई पुस्तकों को भी तैयार किया जायेगा। इस कार्य के लिए अलग-अलग विद्वानों से विशेष लेख भी मंगवाये है और इसी कड़ी के तहत श्री गुरू नानक देव जी की त्रिकाल दृष्टि एक पुस्तक लगभग तैयार है जिसको अगले दिनों में लोकार्पण कर दिया जायेगा। लौंगोवाल ने आगे बताया कि स. भंवर की सेहत ठीक ना होने के कारण शिरोमणि कमेटी द्वारा उनको एक लाख रुपए की सहायता देने का फैसला किया गया है। इसके अलावा सिख इतिहास, गुरबाणी, गुरमति सिद्धांतों से संबंधित सर्वोच्च पुस्तकों को शिरोमणि कमेटी द्वारा पुरस्कार भी दिये जाएंगे। इस मौके पर बोर्ड के मैंबर डा. परमवीर सिंह, प्रो. प्रभजोत कौर, हरविंदर सिंह, डा. रूप सिंह, दिलजीत सिंह बेदी, सिमरजीत सिंह आदि उपस्थित थे।