यूपी में 38-38 सीटों पर चुनाव लड़ेगी सपा-बसपा


लखनऊ, 12 जनवरी (वार्ता) : उत्तर प्रदेश में करीब ढाई दशकों तक एक-दूसरे के कट्टर प्रतिद्वंद्वी रहे समाजवादी पार्टी (सपा) और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) ने केन्द्र में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को शिकस्त देने के लिए शनिवार को आगामी लोकसभा चुनाव साथ मिलकर लड़ने का ऐलान किया।  राजधानी में बुलाये गए संवाददाता सम्मेलन में बसपा प्रमुख मायावती और सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भाजपा सरकार की नीतियों और कार्यप्रणाली को देशहित के खिलाफ करार देते हुए लोकसभा चुनाव को साथ मिलकर लड़ने की घोषणा की। समझौते के तहत उत्तर प्रदेश की 80 लोकसभा सीटों में सपा और बसपा 38-38 सीटों पर चुनाव लड़ेंगी जबकि दो सीटें सहयोगी दलों के लिए छोड़ी गई हैं। दोनों ही दल कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के संसदीय क्षेत्र अमेठी और संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) अध्यक्ष सोनिया गांधी के संसदीय क्षेत्र रायबरेली में अपने प्रत्याशी नहीं उतारेंगे।सुश्री मायावती ने कहा कि केन्द्र की नरेन्द्र मोदी सरकार ने देश को अराजकता और आर्थिक बदहाली की ओर ढकेला है। भाजपा की नीति और कार्यप्रणाली गरीब, किसान, नौजवान, दलित और अल्पसंख्यकों सहित समाज के हर तबके के लिऐ घातक है। भाजपा सरकार ने सिर्फ उद्योगपतियों और पूंजीपतियों का भला किया है। इस कुशासन से देश की जनता को निजात दिलाने के लिए उन्होंने 25 साल पुराने लखनऊ के गेस्ट हाऊस कांड को भुलाकर सपा के साथ समझौते का फैसला लिया है। कांग्रेस पर भी हमलावर मायावती ने कहा कि भाजपा की तरह देश पर लंबे समय तक शासन करके कांग्रेस ने देश की जनता को अराजकता, भ्रष्टाचार और आर्थिक बदहाली का दंश झेलने को मजबूर किया है। उन्होंने साफ किया कि कांग्रेस को गठबंधन में शामिल करने का सवाल ही नहीं उठता और भविष्य में भी देश में किसी भी राज्य में उनकी पार्टी कांग्रेस से समझौता नहीं करेगी। इसके बावजूद कांग्रेस के लिए दो सीटें रायरबेली और अमेठी छोड़ी गई हैं ताकि सफाये की ओर अग्रसर भाजपा को इन दो सीटों पर जोर-आजमाइश करने का मौका मिल सके। इस मौके पर सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि सपा बसपा गठबंधन से बौखलायी भाजपा किसी भी हद तक जा सकती है। कार्यकर्ताओं को भाजपा की किसी भी साजिश से सावधान रहने की नसीहत देते हुए उन्होंने कहा कि जाति और धार्मिक भावनाएं भड़काने का कुचक्र रचा जा सकता है जिससे सावधान रहने की ज़रूरत है। उन्होंने कहा कि भाजपा ने उत्तर प्रदेश को जाति प्रदेश बना दिया है। जाति संप्रदाय की राजनीति करने वाली इस पार्टी ने अपने निजी स्वार्थ की खातिर भगवान को भी जाति में बांटने का प्रयास किया। उन्होंने कहा कि सपा-बसपा मिलकर भाजपा को केन्द्र की सत्ता से बेदखल कर देंगी। सपा अध्यक्ष ने कार्यकर्ताओं से कहा कि वे सुश्री मायावती का पूरा सम्मान करें। मायावती ने कहा कि सपा-बसपा का यह गठबंधन स्थायी है जो लोकसभा चुनाव के बाद भी जारी रहेगा। यह गठबंधन देश को भाजपा के कुशासन से निजात दिलाएगा। वहीं संवाददाता सम्मेलन में बसपा अध्यक्ष मायावती का प्रधानमंत्री पद के लिए समर्थन करने के सवाल पर गोलमोल जवाब देते हुए श्री यादव ने कहा ‘उत्तर प्रदेश ने देश को कई प्रधानमंत्री दिए हैं। यदि फिर से उत्तर प्रदेश, देश को प्रधानमंत्री देता है तो हम इसका स्वागत करेंगे।’