स्वास्थ्य मंत्री की कोठी की ओर कूच करते रहे :  बेरोज़गार स्वास्थ्य कर्मचारियों को पुलिस ने रोका


पटियाला, 10 फरवरी (अ.स.) : बेरोज़गार मल्टीपपज़र् हैल्थ वर्कर यूनियन के सदस्यों ने आज रोज़गार हासिल करने के लिए स्वास्थ्य मंत्री ब्रह्म महिंदरा की कोठी की ओर कूच करने की कोशिश की, जिनको पुलिस द्वारा मोदी कालेज में रोक लिया। इस दौरान धरनाकारियों  ने सरकार के खिलाफ सड़क पर बैठ कर नारेबाज़ी की। बेरोज़गार स्वास्थ्य कर्मचारियों के राज्य प्रधान सुखविंदर सिंह ढिलवां ने बताया कि 30 अप्रैल 2017 को स्वास्थ्य मंत्री ब्रह्म महिंदरा ने पटियाला के बारादरी गार्डन में स्वयं आकर आश्वासन दिया था कि पिछली सरकार द्वारा 4 दिसम्बर 2016 को जारी 1263 स्वास्थ्य वर्कर भर्ती करने के विज्ञापन में रिक्त पद वृद्धि कर पेपर पास कर चुके 1723 उम्मीदवारों को नौकरी दी जाएगी। परंतु मौजूदा सरकार अब तक स्वास्थ्य कर्मचारियों को नौकरी न दिए जाने के कारण वह सड़कों पर उतर आए हैं। उन्होंने बताया कि पिछले विज्ञापन में 1263 उम्मीदवार भर्ती के लिए बाबा फरीद यूनिवर्सिटी फरीदकोट द्वारा कल 1723 उम्मीदवार कौंसलिंग के लिए बुलाए थे। स्वास्थ्य कर्मचारियों  द्वारा लगातार सरकार के खिलाफ नारेबाज़ी करने पर पुलिस अधिकारियों और प्रशासन द्वारा स्वास्थ्य मंत्री के पी.ए. के साथ धरनाकारियों की फोन पर बात करवाई। इस दौरान स्वास्थ्य वर्करों की चंडीगढ़ में स्वास्थ्य मंत्री ब्रह्म महिंदरा के साथ 12 फरवरी को पैनल बैठक तय होने के बाद धरनाकारियों ने धरना स्थगित किया। आज के धरने में बेरोज़गार मल्टीपर्पज़ हैल्थ वर्कर यूनियन पंजाब के प्रधान सुखविंदर सिंह ढिलवां, सोनी पायल, गुरप्यार मानसा, अमरीक बठिंडा,  लखवीर बरनाला आदि के अतिरिक्त बड़ी संख्या में उपस्थित थे।