पाक को सऊदी अरब व संयुक्त अरब अमीरात दे सकता है 30 खरब डालर की वित्तीय सहायता


अमृतसर, 11 फरवरी (सुरिंदर कोछड़): आर्थिक संकट का सामना कर रहे पाकिस्तान को सऊदी अरब व संयुक्त अरब अमीरात ने 30 खरब डालर की वित्तीय सहायता और कर्ज़ के रूप में देने का प्रस्ताव पेश किया है। सऊदी अरब का पाकिस्तान में किया जाने वाला निवेश फरवरी से शुरू हो सकता है। मध्य पूर्व में सऊदी अरब व संयुक्त अरब अमीरात पाक के सबसे बड़े सहयोगी हैं  और इनके द्वारा कज़र् के रूप में मिलने वाली वित्तीय सहायता से वास्तविक स्तर पर भी पाकिस्तान की डगमगाती आर्थिक हालत व कमज़ोर स्टाक में बड़ा सुधार हो सकता है। बताया जा रहा है कि मुद्रा की कमी इमरान खान की सरकार की मौजूदा समय मुख्य चिंता है। सऊदी अरब ने इस मुश्किल समय में पाकिस्तान को एक बहुत बड़ा निवेश पैकेज देने का फैसला किया है। क्राऊन प्रिंस मुहम्मद बिलन सलमान व उनके अधिकतर सहयोगी इस्लामाबाद का जल्द ही दौरा करने जा रहे हैं। उनके द्वारा आर्थिक संकट को सुधारने की कोशिश के लिए चीन से भी वित्तीय सहायता लेने की कोशिश की जा रही है। चीन के महत्वपूर्ण प्रोजैक्ट चीन-पाकिस्तान आर्थिक कारिडोर का महत्वपूर्ण केन्द्र  गवादर बंदरगाह है और अरब सागर के नज़दीक स्थित गवादर बंदरगाह में सऊदी अरब 10 बिलीयन डालर का बड़ा निवेश रिफाइनरी व तेल काम्पलैक्स में करने की योजना बना रहा है।