शहीदों के खून की कीमत वसूलेंगे : मोदी


नई दिल्ली, 15 फरवरी (वार्ता/उपमा डागा पारथ): प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में आतंकवादी हमले के संबंध में पाकिस्तान को स्पष्ट चेतावनी देते हुए शुक्रवार को कहा कि भारत को अस्थिर और बदहाल करने का उसका ख्वाब कभी पूरा नहीं होगा, आतंकवादी संगठनों को उनके किए की सज़ा मिलेगी तथा शहीदों के खून की एक-एक बूंद की कीमत वसूली जाएगी। पुलवामा हमले के बाद पहले सार्वजनिक सभा में श्री मोदी ने यहां शहीद जवानों को श्रद्धांजलि अर्पित की तथा उनके परिजनों के प्रति अपनी तथा समस्त देशवासियों की तरफ से संवेदना व्यक्त की। उन्होंने कहा ‘इस हमले की वजह से देश में जितना आक्रोश है, लोगों का खून खौल रहा है, यह मैं भलीभांति समझ पा रहा हूँ। इस समय जो देश की अपेक्षाएं हैं, कुछ कर गुजरने की भावना है, वह भी स्वाभाविक है। हमारे सुरक्षा बलों को पूर्ण स्वतंत्रता दे दी गयी है। हमें अपने सैनिकों के शौर्य और उनकी बहादुरी पर पूरा भरोसा है। ...हम रक्त के एक-एक बूंद की कीमत लेकर रहेंगे।’ प्रधानमंत्री ने पाकिस्तान का नाम लिए बिना उसे कड़ी चेतावनी दी। उन्होंने कहा ‘पूरे विश्व में अलग-थलग पड़ चुका हमारा पड़ोसी देश यदि यह समझता है कि जिस तरह के कृत्य वह कर रहा है, जिस तरह की साजिशें रच रहा है उससे भारत में अस्थिरता पैदा करने में सफल हो जाएगा, तो वह यह ख्वाब हमेशा-हमेशा के लिए छोड़ दे। वह ऐसा कभी नहीं कर पाएगा और न ही कभी यह होने वाला है। इस समय बड़ी आर्थिक बदहाली की दौर से गुजर रहे हमारे पड़ोसी देश को यदि लगता है कि वह ऐसी तबाही मचाकर भारत को बदहाल कर सकता है तो उसके ये मंसूबे भी कभी पूरे होने वाले नहीं हैं। एक सौ 30 करोड़ हिंदुस्तानी ऐसी हर साजिश, ऐसे हर हमले का मुंहतोड़ जवाब देंगे।’ उन्होंने आतंकवादी संगठनों को चेतावनी देते हुये कहा कि उन्हें इस गलती की सज़ा जरूर मिलेगी। उन्होंने कहा ‘मैं आतंकी संगठनों को और उनके सरपरस्तों से कहना चाहता हूँ कि वे बहुत बड़ी गलती कर चुके हैं। बहुत बड़ी कीमत उनको चुकानी पड़ेगी। मैं देश को भरोसा देता हूं कि हमले के पीछे जो ताकते हैं, इस हमले के लिए जो भी ज़िम्मेदार हैं, उन्हें उनके किये की सज़ा अवश्य मिलेगी।’ श्री मोदी ने इस हमले की निंदा करने वाले देशों का आभार जताते हुए आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में सभी देशों से एकजुट होने का आग्रह किया। उन्होंने देश के सभी राजनीतिक दलों से इस मौके पर राजनीतिक छींटाकशी से दूर रहकर एक साथ खड़े होने की अपील की। प्रधानमंत्री ने कहा कि देश इन हमलों से डरने वाला नहीं है। उन्होंने कहा ‘ऐसे हमलों का देश डटकर मुकाबला करेगा। यह देश रुकने वाला नहीं है। मैं सभी वीर शहीदों को, उनकी आत्मा को नमन करते हुए,उनका आशीर्वाद लेते हुए, एक बार फिर विश्वास जताता हूँ कि जिन सपनों को लेकर उन्होंने आहूति दी है उन सपनों को पूरा करने के लिए हम जीवन का पल-पल खपा देंगे।’ वहीं जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में आतंकी हमले के बाद भारत ने सख्त कदम उठाते हुए पाकिस्तान से व्यापार में ‘सबसे तरजीही राष्ट्र (एमएफएन)’ का दर्जा वापस ले लिया है। इस कदम से पाकिस्तान द्वारा भारत को किए जाने वाले 48.8 करोड़ डॉलर के सामान के निर्यात पर असर पड़ सकता है। तरजीही राष्ट्र का दर्जा वापस लेने के बाद भारत, पाकिस्तान से आने वाली वस्तुओं पर सीमा शुल्क बढ़ा सकेगा।  सुरक्षा मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति (सीसीएस) की बैठक के बाद मीडिया से बातचीत में केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेतली ने कहा कि पाकिस्तान का सर्वाधिक तरजीही राष्ट्र यानी मोस्ट फेवर्ड नेशन (एमएफएन) का दर्जा वापस ले लिया गया है। वहीं दूसरी ओर एमएफएन का दर्जा वापिस लेने पर पाकिस्तान ने कहा कि वह कोई भी ‘भावनात्मक फैसला’ नहीं करेगा और विचार-विमर्श के बाद ही प्रतिक्रिया देगा।