पाक को दुनिया में अलग-थलग करने के लिए शुरू हुआ अभियान


नई दिल्ली, 15 फरवरी (इंट) : सीआरपीएफ के काफिले पर जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुए भीषण आतंकी हमले के बाद भारत ने अंतर्राष्ट्रीय समुदाय में पाक को अलग-थलग करने के प्रयास शुरू कर दिए हैं। अपनी धरती से आतंकी गतिविधियों को संचालित करने की पाकिस्तान की नीति को उजागर करने के लिए भारत ने दुनिया के कई बड़े देशों से संपर्क किया है। सूत्रों के मुताबिक विदेश सचिव विजय गोखले ने नई दिल्ली स्थित करीब 25 मिशनों के मुखिया से मुलाकात की। इनमें जी-5 देशों के प्रतिनिधि, सभी दक्षिण एशियाई देशों के डेलिगेट्स और जापान, जर्मनी एवं कोरिया जैसे प्रमुख मित्र राष्ट्रों के राजनयिक शामिल थे। सूत्रों के मुताबिक,‘इस मुलाकात में सभी देशों के राजनयिक मिशनों के मुखिया ने बिना किसी संदेह के यह स्वीकार किया कि पाकिस्तान के समर्थन वाले और वहां से संचालित होने वाले जैश-ए-मोहम्मद ने इस आतंकी घटना को अंजाम दिया है। यही नहीं सभी देशों ने भारत की इस मांग से भी सहमति जताई कि पाकिस्तान को आतंकवाद को किसी भी तरह का समर्थन बंद करना चाहिए।’ सूत्रों ने बताया कि विदेश सचिव ने इन मुलाकातों के दौरान बताया कि पाकिस्तान किस तरह से अपनी विदेश नीति में आतंकवाद को एक हथियार के तौर पर इस्तेमाल करता है। विदेश मंत्रालय के सूत्रों के मुताबिक आतंकी घटना में पाकिस्तान के रोल को उजागर करने के लिए लगातार प्रयास किए जाते रहेंगे। इसके साथ ही जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर के खिलाफ अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर कार्रवाई के लिए भी पूरी कोशिश की जाएगी।