कच्चे माल की किल्लत से सरिया में उछाल : एंगल-चैनल-गॉर्डर चढ़कर गिरे


नई दिल्ली, 17 फरवरी (एजेंसी): गत सप्ताह लोहा-इस्पात उद्योग में कच्चे माल की भारी कमी आ गयी, क्योंकि स्पंज व पिग आयरन के भाव ऊंचे हो गये। दूसरी ओर स्क्रैप की आवक भी घट गयी। वहीं बिके तैयार मालों की कमी बन जाने से कम्पनियों ने सरिये के भाव 1000/1800 रुपए प्रति टन तक बढ़ा दिये। इसके अलावा एंगल-चैनल-गॉर्डर एवं टी-आयरन में भी 900/1000 रुपए की तेजी आ गयी थी, लेकिन बाद में ग्राहकी का समर्थन न मिलने से कम्पनियों ने 500 रुपए घटा दिये। आलोच्य सप्ताह अंतर्राष्ट्रीय बाजारों में स्पंज व पिग आयरन के भाव 500/550 डॉलर प्रति टन बढ़ गये, जिससे आयात पड़ता महंगा हो जाने एवं नये-पुराने स्क्रैप की आवक घट जाने से उत्तर भारत की कम्पनियों में फिनिश्ड गुड्स की कमी हो गयी, जिससे 1000 रुपए बढ़कर कामधेनु सरिया 12-एमएम का 51600 रुपए प्रति टन हो गया। इसके साथ-साथ अम्बा शक्ति भी 51000 रुपए पर 1000 रुपए तेज हो गया। केवीएस एवं बिड़ला एफई-500-डी भी इसी अनुपात में महंगा हो गया। इधर अम्बा शक्ति 500-एसडी में माल की कमी हो जाने से 1800 रुपए टन की भारी तेजी आ गयी। एंगल में सप्ताह के पूर्वार्द्ध में लोकल व दिसावरी मांग अच्छी होने से 1000 रुपए अलग-अलग कम्पनियों के भाव बढ़ गये। कैपिटल एंगल 1000 रुपए बढ़कर 48600 रुपए ऊपर में बिक गया, लेकिन बाद में ग्राहकी का समर्थन न मिलने से 500 रुपए गिरकर 48100 रुपए रह गया। इसी अनुपात में राना, केवीएस, बिड़ला एमएस एंगल में भी 1000 बढ़ने के बाद 500 रुपए प्रति टन निकल गये।