हरसिमरत का फिरोज़पुर से चुनाव लड़ना तय


जालन्धर, 11 मार्च (मेजर सिंह) : अकाली लीडरशिप ने केन्द्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल को इस बार बठिंडा की बजाय फिरोज़पुर लोकसभा हलके से चुनाव मैदान में उतारने का मन बना लिया है। विश्वासनीय  सूत्रों के अनुसार गत लगभग एक सप्ताह के विचार-विमर्श के बाद किसी भी तरह का जोखिम उठाने की बजाय हरसिमरत कौर बादल को सुरक्षित समझे गए हलका फिरोज़पुर से उम्मीदवार बनाए जाने बारे गैर-रस्मी फैसला कर लिया और संभावना है कि 13 मार्च को पार्टी की वर्किंग कमेटी और कोर कमेटी की हो रही बैठक में इस फैसले के बारे ऐलान भी कर दिया जाए। पता चला है कि बठिंडा हलके से अकाली लीडरशिप जीत का दावा तो करती है, परंतु जीत का बड़ा अंतर न होने का यकीन न होने के कारण हलका बदली करने को प्राथमिक्ता दी जा रही है। पार्टी नज़दीकी सूत्रों के अनुसार फिरोज़पुर में वह बड़े अंतर से जीत यकीनी मानते हैं। इस कारण हलका बदलने का ताना झेलने के लिए तैयार हुए हैं और किसी भी किस्म का खतरा उठाने से किनारा कर रहे हैं। वर्णनीय है कि अकाली दल के प्रधान और हरसिमरत कौर बादल के पति सुखबीर सिंह बादल का विधानसभा हलका जलालाबाद, लोकसभा हलका फिरोज़पुर में पड़ता है। और सुखबीर सिंह 2017 के चुनाव में इस हलके से 18,500 वोटों के अंतर से विजयी रहे थे। बठिंडा लोकसभा हलके से हरसिमरत कौर बादल 2009 के चुनाव में लगभग डेढ़ लाख वोट से विजयी रहे थे, परंतु 2014 के चुनाव में वह 19,874 वोटों के अंतर से जीते थे। पिछले महीने शुरू में हरसिमरत कौर बादल ने बठिंडा से चुनाव लड़ने का ऐलान किया था और गतिविधियां भी शुरू कर दी, परंतु बाद में हालात को मद्देनज़र रखते हुए उनका हलका बदलने के बारे विचार शुरू हुआ। सूत्रों के अनुसार हरसिमरत कौर बादल के फिरोज़पुर जाने के बाद बठिंडा हलके से पूर्व मंत्री सिकंदर सिंह मलूका को उम्मीदवार बनाए जाने के बारे भी हरी झंडी दे दी गई है।