पाक ने श्री करतारपुर साहिब गलियारा के लिए 600 लोगों को घरों व ज़मीनों से हटाया


अमृतसर, 20 मार्च (सुरिन्दर कोछड़): पाकिस्तान के ज़िला नारोवाल के गांव कोठे खुर्द व डोडे के निवासियों ने पाक सरकार के विरुद्ध रोष प्रदर्शन करते हुए आरोप लगाया है कि भारतीय सिख श्रद्धालुओं को गुरुद्वारा श्री करतारपुर साहिब के दर्शनों की सुविधा देने हेतु लगभग 600 गांववासियों को जबरन उनके घरों-ज़मीनों से हटाया जा रहा है। ज़िला नारोवाल की तहसील शक्करगढ़ का गांव कोठे खुर्द जिसमें गुरुद्वारा श्री दरबार साहिब (श्री करतारपुर साहिब) स्थापित है में लम्बे समय से रह रहे परिवारों ने आरोप लगाया है कि पाक सरकार द्वारा करवाई जा रही गलियारा के निर्माण के चलते ज़िला नारोवाल प्रशासन उन्हें घर व ज़मीनें छोड़ने के लिए मजबूर कर रहा है। 
गांव कोठे खुर्द के किसान मुहम्मद अफज़ल, हाजी अरशद, करामत उल्ला व डोडे गांव के निवासी खालक अहमद के अनुसार उनके बुजुर्ग सन् 1947 के बंटवारे से पहले से गांव में आबाद हैं और हाल ही में ज़िला प्रशासन के अधिकारियों ने पहले उनसे उनकी खेतीबाड़ी वाली ज़मीन खाली करवाई और अब घर खाली करने के लिए आदेश जारी किए गए हैं। उन्होंने कहा कि उनके खेतों में लगाई गई भारी मशीनरी से गेहूं की फसल व पशुओं का चारा बिल्कुल बर्बाद हो गया है। उन्होंने कहा कि सरकार ने गलियारा के आसपास गांव डोडे व कोठे खुर्द की 1171 एकड़ ज़मीन पर कब्ज़ा करके फसलें बर्बाद कर दी हैं और किसी को बनते मुआवज़े में से एक पैसा भी नहीं दिया गया। इसके साथ ही उक्त गांवों में 40 ट्यूबवैलों को बंद करने के अलावा सैकड़ों पेड़ भी उखाड़ दिए गए हैं। उधर पाकिस्तान किसान सम्पर्क कमेटी का कहना है कि पाक सरकार किसानों की ज़मीन का उपयोग व्यापारिक उद्देश्याें के लिए कर रही है, इसलिए किसानों को व्यापारिक दरों पर मुआवज़ा दिया जाए।