करतारपुर साहिब गलियारा जमीन संबंधी किसानों व प्रशासन का विवाद सुलझा


बटाला, 25 मार्च (काहलों/वनीत गोयलद्ध : पाकिस्तान स्थित गुरुद्वारा श्री करतारपुर साहिब के रास्ते वाली जमीन के मूल्य को लेकर पिछले कुछ महीनों से किसानों व प्रशासन मध्य चलता विवाद आज उस समय खत्म हो गया जब सब डिवीजन डेरा बाबा नानक के एस.डी.एम. स. गुरसिमरन सिंह ढिल्लों ने स्थानीय एस.डी.एम. कार्यालय में किसानों के साथ अहम बैठक की। करीब चार घंटे लंबी चली इस बैठक में एस.डी.एम. ने कानूनी दायरे में रहते हुए इस जमीन का रेट पिछले तीन वर्षाें की मार्किट रेट रजिस्ट्रियां देखने उपरांत करीब 17 लाख रूपए खेतीबाड़ी मूल्य निश्चित किया है। इस अवसर पर पत्रकारों से बातचीत करते हुए एस.डी.एम. गुरसिमरन सिंह ढिल्लों ने कहा कि इस रास्ते अंदर आने वाली किसानों की कृषि योग्य जमीन का रेट करीब 17 लाख रूपए तय किया गया है, जिस पर 100 फीसदी उजाड़ा भत्ता करीब 34 लाख रूपए प्रति एकड़ बनता है और आज से लेकर जब तक पैसे नहीं मिलते, तब तक उसका 12 फीसदी ब्याज भी किसानों को दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि किसानों को इसके अतिरिक्त इस जमीन की फसल का मूल्य, ट्यूबवैल व पेड़ों के पैसे अलग दिए जाएंगे। साथ ही किसानों की व्यापारिक व घरेलू जमीन का मूल्य अलग दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि इस लंबी चली बैठक के बाद किसानों ने इस संबंधी सहमति प्रकट की है और वो इस रास्ते में कोई भी रुकावट नहीं डालेंगे।