पाक-हिन्दुओं को मृतकों की मुक्ति के लिए वीज़े का इंतजाम


अमृतसर, 16 सितम्बर (सुरिन्द्र कोछड़) : पाकिस्तान के कराची शहर के हिन्दू श्मशानघाट में वहां के 100 से अधिक मृतक हिन्दुओं की लाल-सफेद पोटलियों में रखी अस्थियां भारत में हरिद्वार पहुंचने का इंतजार कर रही हैं। पाकिस्तान के राज्य सिंध में रहते बहुसंख्यक हिन्दुओं का मानना है कि जब तक किसी मृतक हिन्दुओं की अस्थियां हरिद्वार गंगा में प्रवाह नहीं हो जाती, तब तक मृतक और उसके परिवार के लोगों को आत्मिक शांति नहीं मिलेगी। जानकारी देते कराची श्मशानघाट के केयर टेकर राम नाथ ने बताया कि देश के विभाजन के बाद भारत सरकार की ओर से बार-बार प्रयास करने के उपरांत पहली बार वर्ष 2011 में 11 लोगों के लिए वीज़ा जारी किया गया और वह भारत अपने साथ सिर्फ 135 मृतकों की अस्थियां ही ले जा सके। उसके बाद सितम्बर 2016 में एक बार दोबारा मंजूरी मिलने पर 160 पाक हिन्दु मृतकों की अस्थियां हरिद्वार गंगा में प्रवाह की गईं। पाकिस्तान हिन्दु कौंसिल का कहना है कि संस्था द्वारा पाक के मृतक हिन्दुओं के पारिवारिक सदस्यों को अस्थियां गंगा में विसर्जित के लिए वीज़ा दिए जाने की लगातार मांग की जा रही है, पर भारत सरकार का कहना है कि पाक हिन्दू हरिद्वार आने से पहले यह प्रमाण पत्र पेश करें कि मृतक या मृतक के वारिसों का मौजूदा समय हरिद्वार में कौन रिश्तेदार या साक-संबंधी रह रहा है, क्योंकि हरिद्वार में उनकी किसी रिश्तेदार की रिहायश होने पर ही उनको वहां का वीज़ा मिल सकता है। जबकि पाकिस्तानी हिन्दू अभी तक भारत सरकार को अपनी व्यथा स्पष्ट करने में कामयाब नहीं हो सके हैं।