मकड़ियों के बारे अनोखी बातें


मकड़ियों की अनेक किस्में होती हैं पर दो किस्में प्रचलित हैं। तरंतला मकड़ी और गार्डन मकड़ी। तरंतला मकड़ी विश्व की सबसे बड़ी मकड़ी का नाम है। यह दक्षिण अमरीका में पाई जाती है। इसका शरीर 90 मि.मी. लंबा और इसके पैरों की लम्बाई लगभग 250 मि.मी. है। यह 30 सालों तक जीवित रह सकती है। यह अपना 90 प्रतिशत जीवन बिल में ही जी लेती है। इनका ठिकाना काफी गहराई में होता है और बिल को ढकने के लिए ऊपर सिल्क का जाला बना लेती है। यह जाला एक तरफ तो इनकी रक्षा करता है दूसरी तरफ बिल को गंदा होने से भी बचा लेता है। यह एक बार काट ले तो इसका दर्द काफी दिनों तक रहता है। गार्डन मकड़ी का रंग नारंगी होता है। और यह सामान्य से अलग हटकर अपना जाला बनाती है। इसके जाले का आकार पहिए की तरह होता है। इसके जाले की एक खासियत यह होती है कि जाल तैयार करने के बाद मकड़ी इसके ऊपर सिल्क की जिगजैग लाईन डाल देती है। जिसे ट्रेप लाइनें कहा जाता है। यह सिल्क कुछ चिपकने वाला होता है। इसकी सहायता से मकड़ी अपना शिकार पकड़ती है। इस प्रक्रिया के दौरान वह कभी खुद अपने जाले में नहीं फंसती क्योंकि मकड़ी के पैरों में तैलीय परत होती है। यह जाल इसका शिकार करने में भी मदद करता है।

— डी आर. बंदना