24वें हिन्द-पाक दोस्ती मेले का आगाज


अटारी, 13 अगस्त (रूपिन्द्रजीत सिंह भकना): हिन्द-पाक दोस्ती मंच, साफ्मा, फोकलोर रिसर्च अकादमी अमृतसर और पंजाब जागृति मंच जालन्धर द्वारा करवाए जा रहे 24वें हिन्द-पाक दोस्ती मेले को समर्पित भारत-पाकिस्तान के विभाजन समय मारे गए 10 लाख बेकसूर पंजाबियों की स्मृति को समर्पित अटारी सीमा में यादगार एवं फोकलोर रिसर्च अकादमी अमृतसर द्वारा ज्योति जगाने की रस्म के पश्चात् फूलमालाएं भेंट करके श्रद्धांजलि भेंट की गई। इस अवसर पर फोकलोर रिसर्च अकादमी अमृतसर के प्रधान रमेश यादव ने बातचीत करते बताया कि 24वें हिन्द-पाक दोस्ती मेले को समर्पित अटारी सीमा में बने स्मारक पर ज्योति जलाकर 1947 के बंटवारे पर मारे गए 10 लाख बेकसूर पंजाबियों को श्रद्धा के पुष्प भेंट किए। उन्होंने कहा कि आज श्रद्धांजलि भेंट करके हिन्द-पाक दोस्ती मेले की औपचारिक शुरुआत हुई है और मेले को समर्पित आज विभिन्न समारोह करवाए जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि 24 वर्ष पहले अटारी-वाघा सीमा में 1947 के बंटवारे पर मारे गए बेकसूर 10 लाख पंजाबियों की याद को समर्पित दोस्ती स्मारक बनाया गया था जहां हर वर्ष फोकलोर रिसर्च अकादमी द्वारा श्रद्धांजलि भेंट की जाती है। अमृतसर में सैमीनार करवाया जाता है जिसमें भारत-पाकिस्तान के बुद्धिजीवी आपसी सम्बन्धों में विचार-विमर्श करते हैं। उन्होंने कहा कि अमृतसर में आज करवाए जा रहे सैमीनार में देश के विभिन्न राज्यों से आने वाले बुद्धिजीवी शिरकत करेंगे। रमेश यादव ने कहा कि भारत-पाकिस्तान के बीच युद्ध किसी मामले का हल नहीं है। उन्होंने कहा कि शांति रहेगी तो दोनों देशों में खटास कम होगी। गुरदेव सिंह महिलांवाला ने बताया कि आज रात्रि को भारत-पाकिस्तान के बुद्धिजीवी अटारी-वाघा सीमा पर मोमबत्तियां जलाकर हिन्द-पाक दोस्ती का संदेश देंगे। इस अवसर पर कालम नवीस जतिन देसाई, रंजीव शर्मा, हरजीत सिंह सरकारीया, गुरजिन्द्र सिंह बघियाड़ी, प्रिंसीपल अवतार सिंह आदि द्वारा श्रद्धांजलि भेंट की गई।