मोदी सरकार विदेशी दूध के व्यापार को भारत में इजाज़त नहीं देगी : गिरीराज


जगराओं, 7 दिसम्बर (अ.स.): अंतर्राष्ट्रीय स्तर का 14वां तीन दिवसीय डेयरी व कृषि मेला आज जगराओं में शुरू हो गया। इस मेले का उद्घाटन केन्द्रीय मंत्री गिरीराज सिंह ने झंडा लहराकर किया। इस अवसर पर पंजाब फार्मज़ आयोग के चेयरमैन अजयवीर जाखड़ भी उनके साथ थे। इस अवसर पर डेयरी किसानों के इकट्ठ को सम्बोधित करते हुए केन्द्रीय मंत्री गिरीराज सिंह ने कहा कि देश की खुशहाली, किसान की खुशहाली से जुड़ी है तथा मोदी सरकार द्वारा अपना समूचा ध्यान देश के किसानों को खुशहाल करने की ओर केन्द्रित किया हुआ है। उन्होंने इस अवसर पर घोषणा की कि डब्ल्यू.टी.ओ. समझौते तहत विदेशी दूध को भारत में लाने की केन्द्र सरकार इजाज़त नहीं देगी तथा इस मुद्दे पर विभिन्न देशों के बीच हुए समझौते में से देश को बाहर लाया जाएगा। यह फैसला देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा देश के किसानों के हितों में कदम उठाते लिया गया है। उन्होंने कहा कि देश के किसान की आय को बढ़ाने के लिए मोदी सरकार वचनबद्ध है तथा आने वाले समय में डेयरी किसानों के लिए भी ऐसी नीतियां लाई जाएंगी, जिससे दो पशुं के मालिक किसान की आय भी 3 लाख तक होगी तथा भारत में पशु धन को किसान का सबसे लाभप्रद धंधा बनाया जाएगा। उन्होंने बताया कि इस समय देश में 30 करोड़ पशु हैं, जिनमें केवल 10 करोड़ ही दुधारू हैं जबकि आने वाले समय में केन्द्र सरकार द्वारा यहां ऐसा सीमन तैयार किया जा रहा है, जिससे गऊएं बच्छियां ही पैदा करेंगी। उन्होंने यह भी दावा किया कि देश में एक या दो वर्षों बाद पशुओं का गोबर भी 50 रुपए किलो बिकेगा तथा मूत्र की भी कीमत होगी। उन्होंने यह भी कहा कि चाहे आज यह सुनने वाले शायद मुझे पागल तक कहें परन्तु जब केन्द्र सरकार द्वारा किसानों के हितों में बनाई जा रही नीतियां लागू होंगी तो यह सबके सामने होगा। केन्द्रीय मंत्री ने यह भी बताया कि इस समय देश में दूध के धंधे का अर्थचारा, कृषि के धंधे से भी बड़ा है तथा इसका आंकड़े मुंह से बोलते हैं। उन्होंने पी.डी.एफ.ए. द्वारा प्रधान दलजीत सिंह सदरपुरा के नेतृत्व में पंजाब में डेयरी को उत्साहित करने के लिए किए जा रहे कार्यों की प्रशंसा भी की। इस अवसर पर पंजाब फार्मज़र् आयोग के चेयरमैन जाखड़ ने पंजाब के डेयरी किसानों के पक्ष में बोलते हुए दूध का मंडीकरण निश्चित करने, डेयरी मशीनरी पर भी किसानों को सब्सिडी देने व फूड सेफ्टी सिक्योरिटी तहत पंजाब में दूध की मिलावट चैक करने के लिए अन्य लैबें खोलने की मांग भी रखी। उन्होंने आयोग द्वारा पी.डी.एफ.ए. को हर सहयोग, विश्वास दिया।