रेस्क्यू ऑपरेशन : 100 से अधिक लोगों को बचाया



शिमला/कुल्लू, 25 सितम्बर (अ.स., विनोद मंहत) : हिमाचल प्रदेश के जनजातीय ज़िला लाहौल स्पिति सहित कुल्लू में रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया गया। गत दिनों हुई भारी बारिश के कारण यह दोनों ज़िले अधिक प्रभावित हुए हैं। 100 से अधिक फंसे हुए लोगों को बचाया गया, जबकि अभी भी लाहौल घाटी में 800 से अधिक लोगों के फंसे होने की सूचना है।  मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने जहां कुल्लू और लाहौल स्पिति ज़िलों का हवाई सर्वेक्षण कर प्राकृतिक आपदा से हुए नुकसान का जायजा लिया। प्रदेश में गत दिनों हुई भारी बारिश ने कहर बरपाया है, वहीं बैमोसमी हिमपात ने भी लोगों को परेशानी में डाल दिया है। मौसम साफ होने के कारण हैलीकॉप्टर से रेस्क्यू ऑप्रेशन देर से आरंभ होने के चलते सात लोगों को ही हैलीकॉप्टर से निकाला जा सका। ये लोग पैटसियो में फं से हुए थे। इनमें तपावराता बर्मन, आत्म कुमार दास, कजौरी बनर्जी, संगीता देवनाथ और नीलांजना दास शामिल है। इसके अलावा दो स्थानीय लोगों का भी रेस्क्यू किया गया है। कुल मिलाकर आज 102 लोगों को लाहौल स्पिति से रेस्क्यू किया गया। इनमें से 95 लोगों को निर्माणाधीन रोहतांग टनल के माध्यम से बीआरओ ने रेस्क्यू किया है। जानकारी है कि लाहौल स्पिति के विभिन्न हिस्सों में अभी भी 800 से अधिक लोग फं से हुए हैं। इनमें 400 से अधिक पर्यटक और इतने ही बीआरओ के श्रमिक तथा अन्य लोग शामिल हैं। लाहौल स्पिति में फ ंसे आईआईटी रूड़की के 30 छात्र सुरक्षित बताए गए हैं। इन्हें शिशु स्थित सेना के शिविर में रखा गया है। जबकि जिंगजिंगबार और पैटसियो के आसपास फं से लगभग 70 विदेशी नागरिकों तक पहुंचने के लिए भी प्रयास जारी है। ये विदेशी पर्यटक पैटसियो के पास भरतपुर कैम्प में रुके हुए हैं। इन विदेशी पर्यटकों की पहचान के लिए आज केलांग से एक टीम मौके पर भेजी गई है। उधर ग्राम्फू काजा सड़क पर भी बड़ी संख्या में पर्यटक फं से हुए हैं। इनमें आईआईटी मंडी के पांच शिक्षकों के अलावा बड़ी संख्या में पर्यटक और ट्रक ड्राईवर तथा अन्य लोग शामिल हैं। ग्राम्फू काजा सड़क पर कुंजमदर्रे के आस-पास फं से इन लोगों के लिए आज हैलीकॉप्टर से लगभग एक हजार खाने के पैकेट गिराये गए। इस बीच बीआरओ ने भी दावा किया है कि उसने केलांग सराय से 200 लोगों का रेस्क्यू किया है। बीआरओ की 38टीएफ  और रोहतांग टनल के कमांडर ने बताया कि संगठन ने बड़े पैमाने पर लाहौल स्पिति में सड़कों को साफ  करने का काम आरंभ कर दिया है और फं से लोगों तक पहुंचने के लिए हरसंभव प्रयास किए जा रहे हैं। उन्होंने ये भी बताया कि घाटी में फं से सभी लोग सुरक्षित हैं। इस बीच डीआरडीओ ने लाहौल स्पिति, किन्नौर, कुल्लू और चंबा ज़िलों में बर्फबारी प्रभावित क्षेत्रों में हिमस्खलन की चेतावनी दी है तथा लोगों को एहतियात बरतने को कहा है।
ठंड से दो की मौत : जनजातीय ज़िला लाहौल स्पिति में भारी बर्फ बारी के बाद पड़ रही कड़ाके की ठंड में दो लोगों की मौत हो गई। इनमें जोगिंद्रनगर निवासी बुद्धि सिंह और बीआरओ का एक कर्मचारी शामिल है। बुद्धि सिंह की कोकसर में गत रात मौत हुई। वह घोड़े चलाने का काम करता था, जबकि बीआरओ का मृतक कर्मचारी पहले से ही बीमार चल रहा था और उसने बीती रात दम तोड़ दिया। केलांग में आज न्यूनतम तापमान 0.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।